Skip to main content
They will say
قَالُوا۟
वो कहेंगे
"Glory be to You
سُبْحَٰنَكَ
पाक है तू
You
أَنتَ
तू ही
(are) our Protector
وَلِيُّنَا
दोस्त है हमारा
not them
مِن
उनके सिवा
not them
دُونِهِمۖ
उनके सिवा
Nay
بَلْ
बल्कि
they used
كَانُوا۟
थे वो
(to) worship
يَعْبُدُونَ
वो ईबादत करते
the jinn
ٱلْجِنَّۖ
जिन्नों कि
most of them
أَكْثَرُهُم
अक्सर उनके
in them
بِهِم
उन्हीं पर
(were) believers"
مُّؤْمِنُونَ
ईमान लाने वाले थे

Qaloo subhanaka anta waliyyuna min doonihim bal kanoo ya'budoona aljinna aktharuhum bihim muminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे कहेंगे, 'महान है तू, हमारा निकटता का मधुर सम्बन्ध तो तुझी से है, उनसे नहीं; बल्कि बात यह है कि वे जिन्नों को पूजते थे। उनमें से अधिकतर उन्हीं पर ईमान रखते थे।'

English Sahih:

They will say, "Exalted are You! You, [O Allah], are our benefactor excluding [i.e., not] them. Rather, they used to worship the jinn; most of them were believers in them."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तू ही हमारा मालिक है न ये लोग (ये लोग हमारी नहीं) बल्कि जिन्नात (खबाएस भूत-परेत) की परसतिश करते थे कि उनमें के अक्सर लोग उन्हीं पर ईमान रखते थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वह कहेंगेः तू पवित्र है! तू ही हमारा संरक्षक है, न कि ये। बल्कि ये इबादत करते रहे जिन्नों[1] की। इनमें अधिक्तर उन्हींपर ईमान लाने वाले हैं।