Skip to main content

अज-ज़ुमर आयत २४ | Az-Zumar 39:24

Then (is) he who
أَفَمَن
क्या भला वो जो
will shield
يَتَّقِى
बचेगा
with his face
بِوَجْهِهِۦ
साथ अपने चेहरे के
(the) worst
سُوٓءَ
बुरे
punishment
ٱلْعَذَابِ
अज़ाब से
(on the) Day
يَوْمَ
दिन
(of) the Resurrection?
ٱلْقِيَٰمَةِۚ
क़यामत के
And it will be said
وَقِيلَ
और कहा जाएगा
to the wrongdoers
لِلظَّٰلِمِينَ
ज़ालिमों से
"Taste
ذُوقُوا۟
चखो
what
مَا
जो
you used (to)
كُنتُمْ
थे तुम
earn"
تَكْسِبُونَ
तुम कमाई करते

Afaman yattaqee biwajhihi sooa al'athabi yawma alqiyamati waqeela lilththalimeena thooqoo ma kuntum taksiboona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अब क्या जो क़ियामत के दिन अपने चहरें को बुरी यातना (से बचने) की ढाल बनाएगा वह (यातना से सुरक्षित लोगों जैसा होगा)? और ज़ालिमों से कहा जाएगा, 'चखों मज़ा उस कमाई का, जो तुम करते रहे थे!'

English Sahih:

Then is he who will shield with his face the worst of the punishment on the Day of Resurrection [like one secure from it]? And it will be said to the wrongdoers, "Taste what you used to earn."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो क्या जो शख्स क़यामत के दिन अपने मुँह को बड़े अज़ाब की सिपर बनाएगा (नाज़ी के बराबर हो सकता है) और ज़ालिमों से कहा जाएगा कि तुम (दुनिया में) जैसा कुछ करते थे अब उसके मज़े चखो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो क्या जो अपनी रक्षा करेगा अपने मुख[1] से, बुरी यातना से, प्रलय के दिन? तथा कहा जायेगा अत्याचारियों सेः चखो, जो तुम कर रहे थे।