Skip to main content

अज-ज़ुमर आयत ४६ | Az-Zumar 39:46

Say
قُلِ
कह दीजिए
"O Allah!
ٱللَّهُمَّ
ऐ अल्लाह
Creator
فَاطِرَ
ऐ पैदा करने वाले
(of) the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
and the earth
وَٱلْأَرْضِ
और ज़मीन के
Knower
عَٰلِمَ
ऐ जानने वाले
(of) the unseen
ٱلْغَيْبِ
ग़ैब
and the witnessed
وَٱلشَّهَٰدَةِ
और हाज़िर के
You
أَنتَ
तू ही
will judge
تَحْكُمُ
तू फ़ैसला करेगा
between
بَيْنَ
दर्मियान
Your slaves
عِبَادِكَ
अपने बन्दों के
in
فِى
उसमें जो
what
مَا
उसमें जो
they used (to)
كَانُوا۟
हैं वो
therein
فِيهِ
उसमें
differ"
يَخْتَلِفُونَ
वो इख़्तिलाफ़ करते

Quli allahumma fatira alssamawati waalardi 'alima alghaybi waalshshahadati anta tahkumu bayna 'ibadika fee ma kanoo feehi yakhtalifoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कहो, 'ऐ अल्लाह, आकाशो और धरती को पैदा करनेवाले; परोक्ष और प्रत्यक्ष के जाननेवाले! तू ही अपने बन्दों के बीच उस चीज़ का फ़ैसला करेगा, जिसमें वे विभेद कर रहे है।'

English Sahih:

Say, "O Allah, Creator of the heavens and the earth, Knower of the unseen and the witnessed, You will judge between your servants concerning that over which they used to differ."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) तुम कह दो कि ऐ ख़ुदा (ऐ) सारे आसमान और ज़मीन पैदा करने वाले, ज़ाहिर व बातिन के जानने वाले हक़ बातों में तेरे बन्दे आपस में झगड़ रहे हैं तू ही उनके दरमियान फैसला कर देगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे नबी!) आप कहें: हे अल्लाह आकाशों तथा धरती के पैदा करने वाले, परोक्ष तथा प्रत्यक्ष के ज्ञानी! तू ही निर्णय करेगा अपने भक्तों के बीच, जिस बात में वे झगड़ रहे थे।