Skip to main content

अन-निसा आयत १५४ | An-Nisa 4:154

And We raised
وَرَفَعْنَا
और उठाया हमने
over them
فَوْقَهُمُ
उन पर
the mount
ٱلطُّورَ
तूर को
for their covenant
بِمِيثَٰقِهِمْ
उनसे पुख़्ता अहद लेने के लिए
and We said
وَقُلْنَا
और कहा हमने
to them
لَهُمُ
उन्हें
"Enter
ٱدْخُلُوا۟
दाख़िल हो जाओ
the gate
ٱلْبَابَ
दरवाज़े में
prostrating"
سُجَّدًا
सजदा करते हुए
And We said
وَقُلْنَا
और कहा हमने
to them
لَهُمْ
उन्हें
"(Do) not
لَا
ना तुम ज़्यादती करो
transgress
تَعْدُوا۟
ना तुम ज़्यादती करो
in
فِى
सब्त में
the Sabbath"
ٱلسَّبْتِ
सब्त में
And We took
وَأَخَذْنَا
और लिया हमने
from them
مِنْهُم
उनसे
a covenant
مِّيثَٰقًا
अहद
solemn
غَلِيظًا
पक्का

Warafa'na fawqahumu alttoora bimeethaqihim waqulna lahumu odkhuloo albaba sujjadan waqulna lahum la ta'doo fee alssabti waakhathna minhum meethaqan ghaleethan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और उन लोगों से वचन लेने के साथ (तूर) पहाड़ को उनपर उठा दिया और उनसे कहा, 'दरवाज़े में सजदा करते हुए प्रवेश करो।' और उनसे कहा, 'सब्त (सामूहिक इबादत का दिन) के विषय में ज़्यादती न करना।' और हमने उनसे बहुत-ही दृढ़ वचन लिया था

English Sahih:

And We raised over them the mount for [refusal of] their covenant; and We said to them, "Enter the gate bowing humbly"; and We said to them, "Do not transgress on the sabbath"; and We took from them a solemn covenant.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और हमने उनके एहद व पैमान की वजह से उनके (सर) पर (कोहे) तूर को लटका दिया और हमने उनसे कहा कि (शहर के) दरवाज़े में सजदा करते हुए दाख़िल हो और हमने (ये भी) कहा कि तुम हफ्ते के दिन (हमारे हुक्म से) तजावुज़ न करना और हमने उनसे बहुत मज़बूत एहदो पैमान ले लिया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और हमने (उनसे वचन लेने के लिए) उनके ऊपर तूर (पर्वत) उठा दिया तथा हमने उनसे कहाः द्वार में सज्दा करते हुए प्रवेश करो तथा हमने उनसे कहा कि शनिवार[1] के विषय में अति न करो और हमने उनसे दृढ़ वचन लिया।