Skip to main content

अन-निसा आयत १५५ | An-Nisa 4:155

Then because of
فَبِمَا
पस बवजह
their breaking
نَقْضِهِم
उनके तोड़ने के
(of) their covenant
مِّيثَٰقَهُمْ
अपने अहद को
and their disbelief
وَكُفْرِهِم
और उनके कुफ़्र के
in (the) Signs
بِـَٔايَٰتِ
साथ आयात के
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
and their killing
وَقَتْلِهِمُ
और उनके क़त्ल करने के
(of) the Prophets
ٱلْأَنۢبِيَآءَ
अम्बिया को
without
بِغَيْرِ
बग़ैर
any right
حَقٍّ
हक़ के
and their saying
وَقَوْلِهِمْ
और उनके कहने के
"Our hearts
قُلُوبُنَا
दिल हमारे
(are) wrapped"
غُلْفٌۢۚ
ग़िलाफ़ हैं
Nay
بَلْ
बल्कि
(has) set a seal
طَبَعَ
मोहर लगा दी
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
on their (hearts)
عَلَيْهَا
उन पर
for their disbelief
بِكُفْرِهِمْ
बवजह उनके कुफ़्र के
so not
فَلَا
पस नहीं
they believe
يُؤْمِنُونَ
वो ईमान लाते
except
إِلَّا
मगर
a few
قَلِيلًا
बहुत थोड़ा

Fabima naqdihim meethaqahum wakufrihim biayati Allahi waqatlihimu alanbiyaa bighayri haqqin waqawlihim quloobuna ghulfun bal taba'a Allahu 'alayha bikufrihim fala yuminoona illa qaleelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर उनके अपने वचन भंग करने और अल्लाह की आयतों का इनकार करने के कारण और नबियों को नाहक़ क़त्ल करने और उनके यह कहने के कारण कि 'हमारे हृदय आवरणों में सुरक्षित है' - नहीं, बल्कि वास्तव में उनके इनकार के कारण अल्लाह ने उनके दिलों पर ठप्पा लगा दिया है। तो ये ईमान थोड़े ही लाते है

English Sahih:

And [We cursed them] for their breaking of the covenant and their disbelief in the signs of Allah and their killing of the prophets without right and their saying, "Our hearts are wrapped" [i.e., sealed against reception]. Rather, Allah has sealed them because of their disbelief, so they believe not, except for a few.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर उनके अपने एहद तोड़ डालने और एहकामे ख़ुदा से इन्कार करने और नाहक़ अम्बिया को क़त्ल करने और इतरा कर ये कहने की वजह से कि हमारे दिलों पर ग़िलाफ़ चढे हुए हैं (ये तो नहीं) बल्कि ख़ुदा ने उनके कुफ़्र की वजह से उनके दिलों पर मोहर कर दी है तो चन्द आदमियों के सिवा ये लोग ईमान नहीं लाते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो उनके अपना वचन भंग करने, उनके अल्लाह की आयतों के साथ कुफ़्र करने, उनके नबियों को अवैध वध करने तथा उनके ये कहने के कारण कि हमारे दिल बंद हैं। ( ऐसी बात नहीं है) बल्कि अल्लाह ने उनके दिलों पर मुहर लगा दी है। अतः इनमें से थोड़े ही इमान लायेंगे।