Skip to main content

फुसिलत आयत ३ | Fussilat 41:3

A Book
كِتَٰبٌ
एक ऐसी किताब
are detailed
فُصِّلَتْ
खोल कर बयान की गईं हैं
its Verses
ءَايَٰتُهُۥ
आयात उसकी
a Quran
قُرْءَانًا
क़ुरआन है
(in) Arabic
عَرَبِيًّا
अर्बी
for a people
لِّقَوْمٍ
उन लोगों के लिए
who know
يَعْلَمُونَ
जो इल्म रखते हैं

Kitabun fussilat ayatuhu quranan 'arabiyyan liqawmin ya'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

एक किताब, जिसकी आयतें खोल-खोलकर बयान हुई है; अरबी क़ुरआन के रूप में, उन लोगों के लिए जो जानना चाहें;

English Sahih:

A Book whose verses have been detailed, an Arabic Quran for a people who know,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जिसकी आयतें समझदार लोगें के वास्ते तफ़सील से बयान कर दी गयीं हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(ये ऐसी) पुस्तक है, सविस्तार वर्णित की गई हैं जिसकी आयतें। क़ुर्आन अरबी (भाषा में) है उनके लिए, जो ज्ञान रखते हों।[1]