Skip to main content

अश-शूरा आयत ४२ | Ash-Shuraa 42:42

Only
إِنَّمَا
बेशक
the way
ٱلسَّبِيلُ
मुआख़िज़ा तो
against
عَلَى
उन पर है जो
those who
ٱلَّذِينَ
उन पर है जो
oppress
يَظْلِمُونَ
ज़ुल्म करते है
the people
ٱلنَّاسَ
लोगों पर
and rebel
وَيَبْغُونَ
और वो बग़ावत करते है
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
without
بِغَيْرِ
बग़ैर
right
ٱلْحَقِّۚ
हक़ के
Those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
for them
لَهُمْ
उनके लिए
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
painful
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Innama alssabeelu 'ala allatheena yathlimoona alnnasa wayabghoona fee alardi bighayri alhaqqi olaika lahum 'athabun aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

इलज़ाम तो केवल उनपर आता है जो लोगों पर ज़ुल्म करते है और धरती में नाहक़ ज़्यादती करते है। ऐसे लोगों के लिए दुखद यातना है

English Sahih:

The cause is only against the ones who wrong the people and tyrannize upon the earth without right. Those will have a painful punishment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

इल्ज़ाम तो बस उन्हीं लोगों पर होगा जो लोगों पर ज़ुल्म करते हैं और रूए ज़मीन में नाहक़ ज्यादतियाँ करते फिरते हैं उन्हीं लोगों के लिए दर्दनाक अज़ाब है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

दोष केवल उनपर है, जो लोगों पर अत्याचार करते हैं और नाह़क़ ज़मीन में उपद्रव करते हैं। उन्हीं के लिए दर्दनाक यातना है।