Skip to main content

अश-शूरा आयत ७ | Ash-Shuraa 42:7

And thus
وَكَذَٰلِكَ
और इसी तरह
We have revealed
أَوْحَيْنَآ
वही की हमने
to you
إِلَيْكَ
तरफ़ आपके
a Quran
قُرْءَانًا
क़ुरान
(in) Arabic
عَرَبِيًّا
अर्बी
that you may warn
لِّتُنذِرَ
ताकि आप डराऐं
(the) mother
أُمَّ
मक्का वालों को
(of) the towns
ٱلْقُرَىٰ
मक्का वालों को
and whoever
وَمَنْ
और उनको जो
(is) around it
حَوْلَهَا
इर्द -गिर्द हैं उसके
and warn
وَتُنذِرَ
और आप डराऐं
(of the) Day
يَوْمَ
जमा होने के दिन से
(of) Assembly
ٱلْجَمْعِ
जमा होने के दिन से
(there is) no
لَا
नहीं कोई शक
doubt
رَيْبَ
नहीं कोई शक
in it
فِيهِۚ
उसमें
A party
فَرِيقٌ
एक गिरोह ( होगा )
(will be) in
فِى
जन्नत में
Paradise
ٱلْجَنَّةِ
जन्नत में
and a party
وَفَرِيقٌ
और एक गिरोह (होगा)
in
فِى
दोज़ख़ में
the Blazing Fire
ٱلسَّعِيرِ
दोज़ख़ में

Wakathalika awhayna ilayka quranan 'arabiyyan litunthira omma alqura waman hawlaha watunthira yawma aljam'i la rayba feehi fareequn fee aljannati wafareequn fee alssa'eeri

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और (जैसे हम स्पष्ट आयतें उतारते है) उसी प्रकार हमने तुम्हारी ओर एक अरबी क़ुरआन की प्रकाशना की है, ताकि तुम बस्तियों के केन्द्र (मक्का) को और जो लोग उसके चतुर्दिक है उनको सचेत कर दो और सचेत करो इकट्ठा होने के दिन से, जिसमें कोई सन्देह नहीं। एक गिरोह जन्नत में होगा और एक गिरोह भड़कती आग में

English Sahih:

And thus We have revealed to you an Arabic Quran that you may warn the Mother of Cities [i.e., Makkah] and those around it and warn of the Day of Assembly, about which there is no doubt. A party will be in Paradise and a party in the Blaze.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और हमने तुम्हारे पास अरबी क़ुरान यूँ भेजा ताकि तुम मक्का वालों को और जो लोग इसके इर्द गिर्द रहते हैं उनको डराओ और (उनको) क़यामत के दिन से भी डराओ जिस (के आने) में कुछ भी शक़ नहीं (उस दिन) एक फरीक़ (मानने वाला) जन्नत में होगा और फरीक़ (सानी) दोज़ख़ में

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा इसी प्रकार, हमने वह़्यी (प्रकाशना) की है आपकी ओर अरबी क़ुर्आन की। ताकि आप सावधान कर दें मक्का[1] वासियों को और जो उसके आस-पास हैं तथा सावधान कर दें एकत्र होने के दिन[2] से, जिस दिन के होने में कोई संशय नहीं। एक पक्ष स्वर्ग में तथा एक पक्ष नरक में होगा।