Skip to main content

अज-जुखरूफ आयत ३२ | Az-Zukhruf 43:32

Do they
أَهُمْ
क्या वो
distribute
يَقْسِمُونَ
वो तक़सीम करते है
(the) Mercy
رَحْمَتَ
रहमत
(of) your Lord?
رَبِّكَۚ
आपके रब की
We
نَحْنُ
हम
[We] distribute
قَسَمْنَا
तक़सीम कर रखी है हमने
among them
بَيْنَهُم
दर्मियान उनके
their livelihood
مَّعِيشَتَهُمْ
मईशत उनकी
in
فِى
ज़िन्दगी में
the life
ٱلْحَيَوٰةِ
ज़िन्दगी में
(of) the world
ٱلدُّنْيَاۚ
दुनिया की
and We raise
وَرَفَعْنَا
और बुलन्द किया हमने
some of them
بَعْضَهُمْ
उनके बाज़ को
above
فَوْقَ
ऊपर
others
بَعْضٍ
बाज़ के
(in) degrees
دَرَجَٰتٍ
दरजात में
so that may take
لِّيَتَّخِذَ
ताकि बनाऐं
some of them
بَعْضُهُم
उनके बाज़
others
بَعْضًا
बाज़ को
(for) service
سُخْرِيًّاۗ
ख़िदमतगार
But (the) Mercy
وَرَحْمَتُ
और रहमत
(of) your Lord
رَبِّكَ
आपके रब की
(is) better
خَيْرٌ
बेहतर है
than what
مِّمَّا
उससे जो
they accumulate
يَجْمَعُونَ
वो जमा करते हैं

Ahum yaqsimoona rahmata rabbika nahnu qasamna baynahum ma'eeshatahum fee alhayati alddunya warafa'na ba'dahum fawqa ba'din darajatin liyattakhitha ba'duhum ba'dan sukhriyyan warahmatu rabbika khayrun mimma yajma'oona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या वे तुम्हारे रब की दयालुता को बाँटते है? सांसारिक जीवन में उनके जीवन-यापन के साधन हमने उनके बीच बाँटे है और हमने उनमें से कुछ लोगों को दूसरे कुछ लोगों से श्रेणियों की दृष्टि से उच्च रखा है, ताकि उनमें से वे एक-दूसरे से काम लें। और तुम्हारे रब की दयालुता उससे कहीं उत्तम है जिसे वे समेट रहे है

English Sahih:

Do they distribute the mercy of your Lord? It is We who have apportioned among them their livelihood in the life of this world and have raised some of them above others in degrees [of rank] that they may make use of one another for service. But the mercy of your Lord is better than whatever they accumulate.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये लोग तुम्हारे परवरदिगार की रहमत को (अपने तौर पर) बाँटते हैं हमने तो इनके दरमियान उनकी रोज़ी दुनयावी ज़िन्दगी में बाँट ही दी है और एक के दूसरे पर दर्जे बुलन्द किए हैं ताकि इनमें का एक दूसरे से ख़िदमत ले और जो माल (मतआ) ये लोग जमा करते फिरते हैं ख़ुदा की रहमत (पैग़म्बर) इससे कहीं बेहतर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

कया वही बाँटते[1] हैं आपके पालनहार की दया? हमने बाँटी है, उनके बीच, उनकी जीविका सांसारिक जीवन में तथा हमने उच्च किया है, उनमें से एक को दूसरे पर, कई श्रेणियाँ। ताकि एक-दूसरे से सेवा कार्य लें तथा आपके पालनहार की दया[1] उससे उत्तम है, जिसे वे इकट्ठा कर रहे हैं।