Skip to main content

अल-जाथीया आयत २५ | Al-Jathiya 45:25

And when
وَإِذَا
और जब
are recited
تُتْلَىٰ
पढ़ी जाती हैं
to them
عَلَيْهِمْ
उन पर
Our Verses
ءَايَٰتُنَا
आयात हमारी
clear
بَيِّنَٰتٍ
वाज़ेह
not
مَّا
नहीं
is
كَانَ
होती
their argument
حُجَّتَهُمْ
हुज्जत उनकी
except
إِلَّآ
मगर
that
أَن
ये कि
they say
قَالُوا۟
वो कहते हैं
"Bring
ٱئْتُوا۟
ले आओ
our forefathers
بِـَٔابَآئِنَآ
हमारे आबा ओ अजदाद को
if
إِن
अगर
you are
كُنتُمْ
हो तुम
truthful"
صَٰدِقِينَ
सच्चे

Waitha tutla 'alayhim ayatuna bayyinatin ma kana hujjatahum illa an qaloo itoo biabaina in kuntum sadiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जब उनके सामने हमारी स्पष्ट आयतें पढ़ी जाती है, तो उनकी हुज्जत इसके सिवा कुछ और नहीं होती कि वे कहते है, 'यदि तुम सच्चे हो तो हमारे बाप-दादा को ले आओ।'

English Sahih:

And when Our verses are recited to them as clear evidences, their argument is only that they say, "Bring [back] our forefathers, if you should be truthful."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जब उनके सामने हमारी खुली खुली आयतें पढ़ी जाती हैं तो उनकी कट हुज्जती बस यही होती है कि वह कहते हैं कि अगर तुम सच्चे हो तो हमारे बाप दादाओं को (जिला कर) ले तो आओ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और पढ़कर सुनाई जाती हैं उन्हें, हमारी खुली आयतें, तो उनका तर्क केवल ये होता है कि ले आओ हमारे पूर्वजों को, यदि तुम सच्चे हो।