Skip to main content

सूरह अल-अह्काफ़ आयत २४ | Al-Ahqaf 46:24

Then when
فَلَمَّا
तो जब
they saw it
رَأَوْهُ
उन्होंने देखा उसे
(as) a cloud
عَارِضًا
एक बादल
approaching
مُّسْتَقْبِلَ
सामने आने वाला
their valleys
أَوْدِيَتِهِمْ
उनकी वादियों के
they said
قَالُوا۟
उन्होंने कहा
"This
هَٰذَا
ये
(is) a cloud
عَارِضٌ
बादल
bringing us rain"
مُّمْطِرُنَاۚ
मींह बरसाने वाला है हम पर
Nay
بَلْ
बल्कि
it
هُوَ
ये वो है
(is) what
مَا
जो
you were asking it to be hastened
ٱسْتَعْجَلْتُم
जल्दी मचा रहे थे तुम
you were asking it to be hastened
بِهِۦۖ
उसकी
a wind
رِيحٌ
हवा है
in it
فِيهَا
जिसमें
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
painful
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Falamma raawhu 'aridan mustaqbila awdiyatihim qaloo hatha 'aridun mumtiruna bal huwa ma ista'jaltum bihi reehun feeha 'athabun aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर जब उन्होंने उसे बादल के रूप में देखा, जिसका रुख़ उनकी घाटियों की ओर था, तो वे कहने लगे, 'यह बादल है जो हमपर बरसनेवाला है!' 'नहीं, बल्कि यह तो वही चीज़ है जिसके लिए तुमने जल्दी मचा रखी थी। - यह वायु है जिसमें दुखद यातना है

English Sahih:

And when they saw it as a cloud approaching their valleys, they said, "This is a cloud bringing us rain!" Rather, it is that for which you were impatient: a wind, within it a painful punishment,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो जब उन लोगों ने इस (अज़ाब) को देखा कि वबाल की तरह उनके मैदानों की तरफ उम्ड़ा आ रहा है तो कहने लगे ये तो बादल है जो हम पर बरस कर रहेगा (नहीं) बल्कि ये वह (अज़ाब) जिसकी तुम जल्दी मचा रहे थे (ये) वह ऑंधी है जिसमें दर्दनाक (अज़ाब) है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर जब उन्होंने देखा एक बादल आते हुए अपनी वादियों की ओर, तो कहाः ये एक बादल है हमपर बरसने वाला। बल्कि ये वही है, जिसकी तुमने जल्दी मचायी है। ये आँधी है, जिसमें दुःखदायी यातना है।[1]