Skip to main content

अल-फतह आयत १५ | Al-Fatah 48:15

Will say
سَيَقُولُ
अनक़रीब कहेंगे
those who remained behind
ٱلْمُخَلَّفُونَ
पीछे रहने वाले
when
إِذَا
जब
you set forth
ٱنطَلَقْتُمْ
चलोगे तुम
towards
إِلَىٰ
तरफ़ ग़नीमतों के
(the) spoils of war
مَغَانِمَ
तरफ़ ग़नीमतों के
to take it
لِتَأْخُذُوهَا
ताकि तुम ले सको उन्हें
"Allow us
ذَرُونَا
छोड़ दो हमें
(to) follow you"
نَتَّبِعْكُمْۖ
हम पीछे चलें तुम्हारे
They wish
يُرِيدُونَ
वो चाहते है
to
أَن
कि
change
يُبَدِّلُوا۟
वो बदल डालें
(the) Words
كَلَٰمَ
कलाम
(of) Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह का
Say
قُل
कह दीजिए
"Never
لَّن
हरगिज़ नहीं
will you follow us
تَتَّبِعُونَا
तुम पीछे आओगे हमारे
Thus
كَذَٰلِكُمْ
इसी तरह
Allah said
قَالَ
फ़रमाया
Allah said
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
before"
مِن
इससे पहले
before"
قَبْلُۖ
इससे पहले
Then they will say
فَسَيَقُولُونَ
पस ज़रूर वो कहेंगे
"Nay
بَلْ
बल्कि
you envy us"
تَحْسُدُونَنَاۚ
तुम हसद करते हो हम से
Nay
بَلْ
बल्कि
they were
كَانُوا۟
हैं वो
not
لَا
नहीं वो समझते
understanding
يَفْقَهُونَ
नहीं वो समझते
except
إِلَّا
मगर
a little
قَلِيلًا
बहुत कम

Sayaqoolu almukhallafoona itha intalaqtum ila maghanima litakhuthooha tharoona nattabi'kum yureedoona an yubaddiloo kalama Allahi qul lan tattabi'oona kathalikum qala Allahu min qablu fasayaqooloona bal tahsudoonana bal kanoo la yafqahoona illa qaleelan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जब तुम ग़नीमतों को प्राप्त करने के लिए उनकी ओर चलोगे तो पीछे रहनेवाले कहेंगे, 'हमें भी अनुमति दी जाए कि हम तुम्हारे साथ चले।' वे चाहते है कि अल्लाह का कथन को बदल दे। कह देना, 'तुम हमारे साथ कदापि नहीं चल सकते। अल्लाह ने पहले ही ऐसा कह दिया है।' इसपर वे कहेंगे, 'नहीं, बल्कि तुम हमसे ईर्ष्या कर रहे हो।' नहीं, बल्कि वे लोग समझते थोड़े ही है

English Sahih:

Those who remained behind will say when you set out toward the war booty to take it, "Let us follow you." They wish to change the words of Allah. Say, "Never will you follow us. Thus did Allah say before." So they will say, "Rather, you envy us." But [in fact] they were not understanding except a little.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(मुसलमानों) अब जो तुम (ख़ैबर की) ग़नीमतों के लेने को जाने लगोगे तो जो लोग (हुदैबिया से) पीछे रह गये थे तुम से कहेंगे कि हमें भी अपने साथ चलने दो ये चाहते हैं कि ख़ुदा के क़ौल को बदल दें तुम (साफ) कह दो कि तुम हरगिज़ हमारे साथ नहीं चलने पाओगे ख़ुदा ने पहले ही से ऐसा फ़रमा दिया है तो ये लोग कहेंगे कि तुम लोग तो हमसे हसद रखते हो (ख़ुदा ऐसा क्या कहेगा) बात ये है कि ये लोग बहुत ही कम समझते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वो लोग जो पीछे छोड़ दिये गये, कहेंगे, जब तुम चलोगे ग़नीमतों की ओर ताकि उन्हें प्राप्त करो कि हमें (भी) अपने साथ[1] चलने दो। वे चाहते हैं कि बदल दें अल्लाह के आदेश को। आप कह दें कि कदापि हमारे साथ न चल। इसी प्रकार, कहा है अल्लाह ने इससे पहले। फिर वह कहेंगे कि बल्कि तुम द्वेष (जलन) रखते हो, हम से। बल्कि, वे कम ही बात समझते हैं।