Skip to main content

अल-फतह आयत २४ | Al-Fatah 48:24

And He
وَهُوَ
और वो ही है
(is) the One Who
ٱلَّذِى
जिसने
withheld
كَفَّ
रोक दिया
their hands
أَيْدِيَهُمْ
उनके हाथों को
from you
عَنكُمْ
तुम से
and your hands
وَأَيْدِيَكُمْ
और तुम्हारे हाथों को
from them
عَنْهُم
उनसे
within
بِبَطْنِ
वादी में
Makkah
مَكَّةَ
मक्का की
after
مِنۢ
उसके बाद
after
بَعْدِ
उसके बाद
that
أَنْ
कि
He gave you victory
أَظْفَرَكُمْ
उसने कामयाब किया तुम्हें
over them
عَلَيْهِمْۚ
उन पर
And is
وَكَانَ
और है
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
of what
بِمَا
उसे जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
All-Seer
بَصِيرًا
ख़ूब देखने वाला

Wahuwa allathee kaffa aydiyahum 'ankum waaydiyakum 'anhum bibatni makkata min ba'di an athfarakum 'alayhim wakana Allahu bima ta'maloona baseeran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वही है जिसने उसके हाथ तुमसे और तुम्हारे हाथ उनसे मक्के की घाटी में रोक दिए इसके पश्चात कि वह तुम्हें उनपर प्रभावी कर चुका था। अल्लाह उसे देख रहा था जो कुछ तुम कर रहे थे

English Sahih:

And it is He who withheld their hands from you and your hands from them within [the area of] Makkah after He caused you to overcome them. And ever is Allah, of what you do, Seeing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह वही तो है जिसने तुमको उन कुफ्फ़ार पर फ़तेह देने के बाद मक्के की सरहद पर उनके हाथ तुमसे और तुम्हारे हाथ उनसे रोक दिए और तुम लोग जो कुछ भी करते थे ख़ुदा उसे देख रहा था

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा वही है, जिसने रोक दिया उनके हाथों को तुमसे तथा तुम्हारे हाथों को उनसे मक्का की वादी[1] में, इसके पश्चात् कि तुम्हें विजय प्रदान कर दी, उनपर तथा अल्लाह देख रहा था, जो कुछ तुम कर रहे थे।