Skip to main content

अल-माइदा आयत १५ | Al-Maidah 5:15

O People
يَٰٓأَهْلَ
ऐ अहले किताब
(of) the Book!
ٱلْكِتَٰبِ
ऐ अहले किताब
Surely
قَدْ
तहक़ीक़
has come to you
جَآءَكُمْ
आ गया तुम्हारे पास
Our Messenger
رَسُولُنَا
रसूल हमारा
making clear
يُبَيِّنُ
जो वाज़ेह करता है
to you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
much
كَثِيرًا
बकसरत
of what
مِّمَّا
उसमें से जो
you used to
كُنتُمْ
थे तुम
conceal
تُخْفُونَ
तुम छुपाते
of
مِنَ
किताब में से
the Scripture
ٱلْكِتَٰبِ
किताब में से
and overlooking
وَيَعْفُوا۟
और वो दरगुज़र करता है
of
عَن
बहुत सी (बातों) से
much
كَثِيرٍۚ
बहुत सी (बातों) से
Surely
قَدْ
तहक़ीक़
has come to you
جَآءَكُم
आ गया तुम्हारे पास
from
مِّنَ
अल्लाह की तरफ़ से
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की तरफ़ से
a light
نُورٌ
एक नूर
and a Book
وَكِتَٰبٌ
और किताब
clear
مُّبِينٌ
वाज़ेह

Ya ahla alkitabi qad jaakum rasooluna yubayyinu lakum katheeran mimma kuntum tukhfoona mina alkitabi waya'foo 'an katheerin qad jaakum mina Allahi noorun wakitabun mubeenun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ किताबवालों! हमारा रसूल तुम्हारे पास आ गया है। किताब की जो बातें तुम छिपाते थे, उसमें से बहुत-सी बातें वह तुम्हारे सामने खोल रहा है और बहुत-सी बातों को छोड़ देता है। तुम्हारे पास अल्लाह की ओर से प्रकाश और एक स्पष्ट किताब आ गई है,

English Sahih:

O People of the Scripture, there has come to you Our Messenger making clear to you much of what you used to conceal of the Scripture and overlooking much. There has come to you from Allah a light and a clear Book [i.e., the Quran]

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ अहले किताब तुम्हारे पास हमारा पैगम्बर (मोहम्मद सल्ल) आ चुका जो किताबे ख़ुदा की उन बातों में से जिन्हें तुम छुपाया करते थे बहुतेरी तो साफ़ साफ़ बयान कर देगा और बहुतेरी से (अमदन) दरगुज़र करेगा तुम्हरे पास तो ख़ुदा की तरफ़ से एक (चमकता हुआ) नूर और साफ़ साफ़ बयान करने वाली किताब (कुरान) आ चुकी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे अह्ले किताब! तुम्हारे पास हमारे रसूल आ गये हैं[1], जो तुम्हारे लिए उन बहुत सी बातों को उजागर कर रहे हैं, जिन्हें तुम छुपा रहे थे और बहुत सी बातों को छोड़ भी रहे हैं। अब तुम्हारे पास अल्लाह की ओर से प्रकाश तथा खुली पुस्तक (कुर्आन) आ गई है।