Skip to main content
bismillah
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
أَوْفُوا۟
पूरा करो
بِٱلْعُقُودِۚ
अहदो पैमान को
أُحِلَّتْ
हलाल कर दिए गए
لَكُم
तुम्हारे लिए
بَهِيمَةُ
चौपाए
ٱلْأَنْعَٰمِ
मवेशियों के
إِلَّا
सिवाय
مَا
उनके जो
يُتْلَىٰ
पढ़े जाऐंगे
عَلَيْكُمْ
तुम पर
غَيْرَ
ना
مُحِلِّى
हलाल करने वाले हो
ٱلصَّيْدِ
शिकार को
وَأَنتُمْ
जबकि तुम
حُرُمٌۗ
(हालत) ऐहराम में हो
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
يَحْكُمُ
वो फ़ैसला करता है
مَا
जो
يُرِيدُ
वो चाहता है

Ya ayyuha allatheena amanoo awfoo bial'uqoodi ohillat lakum baheematu alan'ami illa ma yutla 'alaykum ghayra muhillee alssaydi waantum hurumun inna Allaha yahkumu ma yureedu

ऐ ईमान लानेवालो! प्रतिबन्धों (प्रतिज्ञाओं, समझौतों आदि) का पूर्ण रूप से पालन करो। तुम्हारे लिए चौपायों की जाति के जानवर हलाल हैं सिवाय उनके जो तुम्हें बताए जा रहें हैं; लेकिन जब तुम इहराम की दशा में हो तो शिकार को हलाल न समझना। निस्संदेह अल्लाह जो चाहते है, आदेश देता है

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
لَا
ना तुम हलाल करो
تُحِلُّوا۟
ना तुम हलाल करो
شَعَٰٓئِرَ
निशानियों को
ٱللَّهِ
अल्लाह की
وَلَا
और ना
ٱلشَّهْرَ
माहे
ٱلْحَرَامَ
हराम को
وَلَا
और ना
ٱلْهَدْىَ
क़ुर्बानी के जानवर को
وَلَا
और ना
ٱلْقَلَٰٓئِدَ
पट्टे वाले जानवरों को
وَلَآ
और ना
ءَآمِّينَ
इरादा करने वालों को
ٱلْبَيْتَ
बैतुल हराम का
ٱلْحَرَامَ
बैतुल हराम का
يَبْتَغُونَ
जो चाहते हैं
فَضْلًا
फ़ज़ल
مِّن
अपने रब की तरफ़ से
رَّبِّهِمْ
अपने रब की तरफ़ से
وَرِضْوَٰنًاۚ
और रज़ामन्दी
وَإِذَا
और जब
حَلَلْتُمْ
हलाल हो जाओ तुम
فَٱصْطَادُوا۟ۚ
तो शिकार करो (अगर तुम चाहो)
وَلَا
और ना
يَجْرِمَنَّكُمْ
आमादा करे तुम्हें
شَنَـَٔانُ
दुश्मनी
قَوْمٍ
किसी क़ौम की
أَن
कि
صَدُّوكُمْ
उन्होंने रोका तुम्हें
عَنِ
मस्जिदे हराम से
ٱلْمَسْجِدِ
मस्जिदे हराम से
ٱلْحَرَامِ
मस्जिदे हराम से
أَن
कि
تَعْتَدُواۘ
तुम ज़्यादती करो
وَتَعَاوَنُوا۟
और तआवुन करो
عَلَى
नेकी पर
ٱلْبِرِّ
नेकी पर
وَٱلتَّقْوَىٰۖ
और तक़वा पर
وَلَا
और ना
تَعَاوَنُوا۟
तुम तआवुन करो
عَلَى
गुनाह पर
ٱلْإِثْمِ
गुनाह पर
وَٱلْعُدْوَٰنِۚ
और ज़्यादती पर
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
ٱللَّهَۖ
अल्लाह से
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
شَدِيدُ
सख़्त
ٱلْعِقَابِ
सज़ा वाला है

Ya ayyuha allatheena amanoo la tuhilloo sha'aira Allahi wala alshshahra alharama wala alhadya wala alqalaida wala ammeena albayta alharama yabtaghoona fadlan min rabbihim waridwanan waitha halaltum faistadoo wala yajrimannakum shanaanu qawmin an saddookum 'ani almasjidi alharami an ta'tadoo wata'awanoo 'ala albirri waalttaqwa wala ta'awanoo 'ala alithmi waal'udwani waittaqoo Allaha inna Allaha shadeedu al'iqabi

ऐ ईमान लानेवालो! अल्लाह की निशानियों का अनादर न करो; न आदर के महीनों का, न क़ुरबानी के जानवरों का और न जानवरों का जिनका गरदनों में पट्टे पड़े हो और न उन लोगों का जो अपने रब के अनुग्रह और उसकी प्रसन्नता की चाह में प्रतिष्ठित गृह (काबा) को जाते हो। और जब इहराम की दशा से बाहर हो जाओ तो शिकार करो। और ऐसा न हो कि एक गिरोह की शत्रुता, जिसने तुम्हारे लिए प्रतिष्ठित घर का रास्ता बन्द कर दिया था, तुम्हें इस बात पर उभार दे कि तुम ज़्यादती करने लगो। हक़ अदा करने और ईश-भय के काम में तुम एक-दूसरे का सहयोग करो और हक़ मारने और ज़्यादती के काम में एक-दूसरे का सहयोग न करो। अल्लाह का डर रखो; निश्चय ही अल्लाह बड़ा कठोर दंड देनेवाला है

Tafseer (तफ़सीर )
حُرِّمَتْ
हराम किया गया
عَلَيْكُمُ
तुम पर
ٱلْمَيْتَةُ
मुर्दार
وَٱلدَّمُ
और ख़ून
وَلَحْمُ
और गोश्त
ٱلْخِنزِيرِ
ख़िन्ज़ीर का
وَمَآ
और जो
أُهِلَّ
पुकारा गया
لِغَيْرِ
वास्ते ग़ैर
ٱللَّهِ
अल्लाह के
بِهِۦ
उसको
وَٱلْمُنْخَنِقَةُ
और गला घुटकर मरने वाली
وَٱلْمَوْقُوذَةُ
और चोट लगकर मरने वाली
وَٱلْمُتَرَدِّيَةُ
और बुलन्दी से गिर कर मरने वाली
وَٱلنَّطِيحَةُ
और सींग लग कर मरने वाली
وَمَآ
और जिसे
أَكَلَ
खा जाए
ٱلسَّبُعُ
दरिन्दा
إِلَّا
मगर
مَا
जिसको
ذَكَّيْتُمْ
ज़िबह कर लिया तुमने
وَمَا
और जो
ذُبِحَ
ज़िबह किया गया
عَلَى
आस्तानों पर
ٱلنُّصُبِ
आस्तानों पर
وَأَن
और ये कि
تَسْتَقْسِمُوا۟
तुम क़िस्मत मालूम करो
بِٱلْأَزْلَٰمِۚ
तीरों/पाँसों के ज़रिए
ذَٰلِكُمْ
ये सब
فِسْقٌۗ
गुनाह (के काम) हैं
ٱلْيَوْمَ
आज के दिन
يَئِسَ
मायूस हो गए
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
مِن
तुम्हारे दीन से
دِينِكُمْ
तुम्हारे दीन से
فَلَا
तो ना
تَخْشَوْهُمْ
तुम डरो उनसे
وَٱخْشَوْنِۚ
और डरो मुझसे
ٱلْيَوْمَ
आज के दिन
أَكْمَلْتُ
मुकम्मल कर दिया मैंने
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
دِينَكُمْ
दीन तुम्हारा
وَأَتْمَمْتُ
और तमाम कर दी मैंने
عَلَيْكُمْ
तुम पर
نِعْمَتِى
नेअमत अपनी
وَرَضِيتُ
और पसंद कर लिया मैंने
لَكُمُ
तुम्हारे लिए
ٱلْإِسْلَٰمَ
इस्लाम को
دِينًاۚ
बतौर दीन
فَمَنِ
तो जो कोई
ٱضْطُرَّ
मजबूर किया गया
فِى
भूख में
مَخْمَصَةٍ
भूख में
غَيْرَ
नहीं माइल होने वाला
مُتَجَانِفٍ
नहीं माइल होने वाला
لِّإِثْمٍۙ
तरफ़ गुनाह के
فَإِنَّ
तो बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Hurrimat 'alaykumu almaytatu waalddamu walahmu alkhinzeeri wama ohilla lighayri Allahi bihi waalmunkhaniqatu waalmawqoothatu waalmutaraddiyatu waalnnateehatu wama akala alssabu'u illa ma thakkaytum wama thubiha 'ala alnnusubi waan tastaqsimoo bialazlami thalikum fisqun alyawma yaisa allatheena kafaroo min deenikum fala takhshawhum waikhshawni alyawma akmaltu lakum deenakum waatmamtu 'alaykum ni'matee waradeetu lakumu alislama deenan famani idturra fee makhmasatin ghayra mutajanifin liithmin fainna Allaha ghafoorun raheemun

तुम्हारे लिए हराम हुआ मुर्दार रक्त, सूअर का मांस और वह जानवर जिसपर अल्लाह के अतिरिक्त किसी और का नाम लिया गया हो और वह जो घुटकर या चोट खाकर या ऊँचाई से गिरकर या सींग लगने से मरा हो या जिसे किसी हिंसक पशु ने फाड़ खाया हो - सिवाय उसके जिसे तुमने ज़बह कर लिया हो - और वह किसी थान पर ज़बह कियी गया हो। और यह भी (तुम्हारे लिए हराम हैं) कि तीरो के द्वारा किस्मत मालूम करो। यह आज्ञा का उल्लंघन है - आज इनकार करनेवाले तुम्हारे धर्म की ओर से निराश हो चुके हैं तो तुम उनसे न डरो, बल्कि मुझसे डरो। आज मैंने तुम्हारे धर्म को पूर्ण कर दिया और तुमपर अपनी नेमत पूरी कर दी और मैंने तुम्हारे धर्म के रूप में इस्लाम को पसन्द किया - तो जो कोई भूख से विवश हो जाए, परन्तु गुनाह की ओर उसका झुकाव न हो, तो निश्चय ही अल्लाह अत्यन्त क्षमाशील, दयावान है

Tafseer (तफ़सीर )
يَسْـَٔلُونَكَ
वो सवाल करते हैं आपसे
مَاذَآ
क्या कुछ
أُحِلَّ
हलाल किया गया
لَهُمْۖ
उनके लिए
قُلْ
कह दीजिए
أُحِلَّ
हलाल की गईं
لَكُمُ
तुम्हारे लिए
ٱلطَّيِّبَٰتُۙ
पाकीज़ा चीज़ें
وَمَا
और जो
عَلَّمْتُم
सिखाया तुमने
مِّنَ
शिकारी जानवरों को
ٱلْجَوَارِحِ
शिकारी जानवरों को
مُكَلِّبِينَ
शिकार की तालीम देने वाले
تُعَلِّمُونَهُنَّ
तुम सिखाते हो उन्हें
مِمَّا
उसमें से जो
عَلَّمَكُمُ
सिखाया तुम्हें
ٱللَّهُۖ
अल्लाह ने
فَكُلُوا۟
तो खाओ
مِمَّآ
उसमें से जो
أَمْسَكْنَ
वो रोक रखें
عَلَيْكُمْ
तुम पर
وَٱذْكُرُوا۟
और ज़िक्र करो
ٱسْمَ
नाम
ٱللَّهِ
अल्लाह का
عَلَيْهِۖ
उस पर
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
ٱللَّهَۚ
अल्लाह से
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
سَرِيعُ
जल्द लेने वाला है
ٱلْحِسَابِ
हिसाब

Yasaloonaka matha ohilla lahum qul ohilla lakumu alttayyibatu wama 'allamtum mina aljawarihi mukallibeena tu'allimoonahunna mimma 'allamakumu Allahu fakuloo mimma amsakna 'alaykum waothkuroo isma Allahi 'alayhi waittaqoo Allaha inna Allaha saree'u alhisabi

वे तुमसे पूछते है कि 'उनके लिए क्या हलाल है?' कह दो, 'तुम्हारे लिए सारी अच्छी स्वच्छ चीज़ें हलाल है और जिन शिकारी जानवरों को तुमने सधे हुए शिकारी जानवर के रूप में सधा रखा हो - जिनको जैस अल्लाह ने तुम्हें सिखाया हैं, सिखाते हो - वे जिस शिकार को तुम्हारे लिए पकड़े रखे, उसको खाओ और उसपर अल्लाह का नाम लो। और अल्लाह का डर रखो। निश्चय ही अल्लाह जल्द हिसाब लेनेवाला है।'

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلْيَوْمَ
आज के दिन
أُحِلَّ
हलाल कर दी गईं
لَكُمُ
तुम्हारे लिए
ٱلطَّيِّبَٰتُۖ
पाकीज़ा चीज़ें
وَطَعَامُ
और खाना
ٱلَّذِينَ
उनका जो
أُوتُوا۟
दिए गए
ٱلْكِتَٰبَ
किताब
حِلٌّ
हलाल है
لَّكُمْ
तुम्हारे लिए
وَطَعَامُكُمْ
और खाना तुम्हारा
حِلٌّ
हलाल है
لَّهُمْۖ
उनके लिए
وَٱلْمُحْصَنَٰتُ
और पाक दामन औरतें
مِنَ
मोमिन औरतों में से
ٱلْمُؤْمِنَٰتِ
मोमिन औरतों में से
وَٱلْمُحْصَنَٰتُ
और पाक दामन औरतें
مِنَ
उनमें से जो
ٱلَّذِينَ
उनमें से जो
أُوتُوا۟
दिए गए
ٱلْكِتَٰبَ
किताब
مِن
तुमसे पहले
قَبْلِكُمْ
तुमसे पहले
إِذَآ
जब
ءَاتَيْتُمُوهُنَّ
दे दो तुम उन्हें
أُجُورَهُنَّ
महर उनके
مُحْصِنِينَ
निकाह में लाने वाले
غَيْرَ
ना बदकारी करने वाले
مُسَٰفِحِينَ
ना बदकारी करने वाले
وَلَا
और ना
مُتَّخِذِىٓ
बनाने वाले
أَخْدَانٍۗ
छुपे दोस्त
وَمَن
और जो कोई
يَكْفُرْ
कुफ़्र करेगा
بِٱلْإِيمَٰنِ
साथ ईमान के
فَقَدْ
पस तहक़ीक़
حَبِطَ
ज़ाया हो गया
عَمَلُهُۥ
अमल उसका
وَهُوَ
और वो
فِى
आख़िरत में
ٱلْءَاخِرَةِ
आख़िरत में
مِنَ
ख़सारा पाने वालों में से होगा
ٱلْخَٰسِرِينَ
ख़सारा पाने वालों में से होगा

Alyawma ohilla lakumu alttayyibatu wata'amu allatheena ootoo alkitaba hillun lakum wata'amukum hillun lahum waalmuhsanatu mina almuminati waalmuhsanatu mina allatheena ootoo alkitaba min qablikum itha ataytumoohunna ojoorahunna muhsineena ghayra musafiheena wala muttakhithee akhdanin waman yakfur bialeemani faqad habita 'amaluhu wahuwa fee alakhirati mina alkhasireena

आज तुम्हारे लिए अच्छी स्वच्छ चीज़ें हलाल कर दी गई और जिन्हें किताब दी गई उनका भोजन भी तुम्हारे लिए हलाल है और तुम्हारा भोजन उनके लिए हलाल है और शरीफ़ और स्वतंत्र ईमानवाली स्त्रियाँ भी जो तुमसे पहले के किताबवालों में से हो, जबकि तुम उनका हक़ (मेहर) देकर उन्हें निकाह में लाओ। न तो यह काम स्वछन्द कामतृप्ति के लिए हो और न चोरी-छिपे याराना करने को। और जिस किसी ने ईमान से इनकार किया, उसका सारा किया-धरा अकारथ गया और वह आख़िरत में भी घाटे में रहेगा

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوٓا۟
ईमान लाए हो
إِذَا
जब
قُمْتُمْ
खड़े हो तुम
إِلَى
तरफ़ नमाज़ के
ٱلصَّلَوٰةِ
तरफ़ नमाज़ के
فَٱغْسِلُوا۟
तो धो लो तुम
وُجُوهَكُمْ
अपने चेहरों को
وَأَيْدِيَكُمْ
और अपने हाथों के
إِلَى
कोहनियों तक
ٱلْمَرَافِقِ
कोहनियों तक
وَٱمْسَحُوا۟
और मसह कर लो
بِرُءُوسِكُمْ
अपने सरों का
وَأَرْجُلَكُمْ
और अपने पाँवों को (धो लो)
إِلَى
टख़नों तक
ٱلْكَعْبَيْنِۚ
टख़नों तक
وَإِن
और अगर
كُنتُمْ
हो तुम
جُنُبًا
हालते जनाबत में
فَٱطَّهَّرُوا۟ۚ
तो ख़ूब पाक हो जाओ
وَإِن
और अगर
كُنتُم
हो तुम
مَّرْضَىٰٓ
बीमार
أَوْ
या
عَلَىٰ
किसी सफ़र पर
سَفَرٍ
किसी सफ़र पर
أَوْ
या
جَآءَ
आया
أَحَدٌ
कोई एक
مِّنكُم
तुम में से
مِّنَ
क़ज़ा-ए-हाजत से
ٱلْغَآئِطِ
क़ज़ा-ए-हाजत से
أَوْ
या
لَٰمَسْتُمُ
छुआ हो तुमने
ٱلنِّسَآءَ
औरतों को
فَلَمْ
फिर ना
تَجِدُوا۟
तुम पाओ
مَآءً
पानी
فَتَيَمَّمُوا۟
तो तयम्मुम कर लो
صَعِيدًا
मिट्टी
طَيِّبًا
पाक से
فَٱمْسَحُوا۟
फिर मसह करो
بِوُجُوهِكُمْ
अपने चेहरों का
وَأَيْدِيكُم
और अपने हाथों का
مِّنْهُۚ
उससे
مَا
नहीं
يُرِيدُ
चाहता
ٱللَّهُ
अल्लाह
لِيَجْعَلَ
कि वो कर दे
عَلَيْكُم
तुम पर
مِّنْ
कोई तंगी
حَرَجٍ
कोई तंगी
وَلَٰكِن
और लेकिन
يُرِيدُ
वो चाहता है
لِيُطَهِّرَكُمْ
कि वो पाक कर दे तुम्हें
وَلِيُتِمَّ
और ताकि वो पूरा कर दे
نِعْمَتَهُۥ
अपनी नेअमत को
عَلَيْكُمْ
तुम पर
لَعَلَّكُمْ
ताकि तुम
تَشْكُرُونَ
तुम शुक्र अदा करो

Ya ayyuha allatheena amanoo itha qumtum ila alssalati faighsiloo wujoohakum waaydiyakum ila almarafiqi waimsahoo biruoosikum waarjulakum ila alka'bayni wain kuntum junuban faittahharoo wain kuntum marda aw 'ala safarin aw jaa ahadun minkum mina alghaiti aw lamastumu alnnisaa falam tajidoo maan fatayammamoo sa'eedan tayyiban faimsahoo biwujoohikum waaydeekum minhu ma yureedu Allahu liyaj'ala 'alaykum min harajin walakin yureedu liyutahhirakum waliyutimma ni'matahu 'alaykum la'allakum tashkuroona

ऐ ईमान लेनेवालो! जब तुम नमाज़ के लिए उठो तो अपने चहरों को और हाथों को कुहनियों तक धो लिया करो और अपने सिरों पर हाथ फेर लो और अपने पैरों को भी टखनों तक धो लो। और यदि नापाक हो तो अच्छी तरह पाक हो जाओ। परन्तु यदि बीमार हो या सफ़र में हो या तुममें से कोई शौच करके आया हो या तुमने स्त्रियों को हाथ लगया हो, फिर पानी न मिले तो पाक मिट्टी से काम लो। उसपर हाथ मारकर अपने मुँह और हाथों पर फेर लो। अल्लाह तुम्हें किसी तंगी में नहीं डालना चाहता। अपितु वह चाहता हैं कि तुम्हें पवित्र करे और अपनी नेमत तुमपर पूरी कर दे, ताकि तुम कृतज्ञ बनो

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱذْكُرُوا۟
और याद करो
نِعْمَةَ
नेअमत को
ٱللَّهِ
अल्लाह की
عَلَيْكُمْ
जो तुम पर है
وَمِيثَٰقَهُ
और उसका पुख़्ता अहद
ٱلَّذِى
वो जो
وَاثَقَكُم
उसने तुमसे अहद लिया
بِهِۦٓ
साथ उसके
إِذْ
जब
قُلْتُمْ
कहा तुमने
سَمِعْنَا
सुना हमने
وَأَطَعْنَاۖ
और इताअत की हमने
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
ٱللَّهَۚ
अल्लाह से
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
عَلِيمٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
بِذَاتِ
सीनों वाले (भेद)
ٱلصُّدُورِ
सीनों वाले (भेद)

Waothkuroo ni'mata Allahi 'alaykum wameethaqahu allathee wathaqakum bihi ith qultum sami'na waata'na waittaqoo Allaha inna Allaha 'aleemun bithati alssudoori

और अल्लाह के उस अनुग्रह को याद करो जो उसने तुमपर किया हैं और उस प्रतिज्ञा को भी जो उसने तुमसे की है, जबकि तुमने कहा था - 'हमने सुना और माना।' अल्लाह जो कुछ सीनों (दिलों) में है, उसे भी जानता हैं

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
كُونُوا۟
हो जाओ तुम
قَوَّٰمِينَ
क़ायम रहने वाले
لِلَّهِ
अल्लाह के लिए
شُهَدَآءَ
गवाह
بِٱلْقِسْطِۖ
साथ इन्साफ़ के
وَلَا
और ना
يَجْرِمَنَّكُمْ
हरगिज़ आमादा करे तुम्हें
شَنَـَٔانُ
दुश्मनी
قَوْمٍ
किसी क़ौम की
عَلَىٰٓ
इस पर
أَلَّا
कि ना
تَعْدِلُوا۟ۚ
तुम अदल करोगे
ٱعْدِلُوا۟
अदल करो
هُوَ
वो
أَقْرَبُ
ज़्यादा क़रीब है
لِلتَّقْوَىٰۖ
तक़वा के
وَٱتَّقُوا۟
और डरो
ٱللَّهَۚ
अल्लाह से
إِنَّ
बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
خَبِيرٌۢ
ख़ूब ख़बर रखने वाला है
بِمَا
उसकी जो
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो

Ya ayyuha allatheena amanoo koonoo qawwameena lillahi shuhadaa bialqisti wala yajrimannakum shanaanu qawmin 'ala alla ta'diloo i'diloo huwa aqrabu lilttaqwa waittaqoo Allaha inna Allaha khabeerun bima ta'maloona

ऐ ईमान लेनेवालो! अल्लाह के लिए खूब उठनेवाले, इनसाफ़ की निगरानी करनेवाले बनो और ऐसा न हो कि किसी गिरोह की शत्रुता तुम्हें इस बात पर उभार दे कि तुम इनसाफ़ करना छोड़ दो। इनसाफ़ करो, यही धर्मपरायणता से अधिक निकट है। अल्लाह का डर रखो, निश्चय ही जो कुछ तुम करते हो, अल्लाह को उसकी ख़बर हैं

Tafseer (तफ़सीर )
وَعَدَ
वादा किया
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
ٱلَّذِينَ
उनसे जो
ءَامَنُوا۟
जो ईमान लाए
وَعَمِلُوا۟
और उन्होंने अमल किए
ٱلصَّٰلِحَٰتِۙ
नेक
لَهُم
उनके लिए
مَّغْفِرَةٌ
मग़फ़िरत
وَأَجْرٌ
और अजर है
عَظِيمٌ
बहुत बड़ा

Wa'ada Allahu allatheena amanoo wa'amiloo alssalihati lahum maghfiratun waajrun 'atheemun

जो लोग ईमान लाए और उन्होंन अच्छे कर्म किए उनसे अल्लाह का वादा है कि उनके लिए क्षमा और बड़ा प्रतिदान है

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱلَّذِينَ
और वो जिन्होंने
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
وَكَذَّبُوا۟
और उन्होंने झुठलाया
بِـَٔايَٰتِنَآ
हमारी आयात को
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
أَصْحَٰبُ
साथी
ٱلْجَحِيمِ
जहन्नम के

Waallatheena kafaroo wakaththaboo biayatina olaika ashabu aljaheemi

रहे वे लोग जिन्होंने इनकार किया और हमारी आयतों को झुठलाया, वही भड़कती आग में पड़नेवाले है

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-माइदा
القرآن الكريم:المائدة
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):Al-Ma'idah
सूरा:5
कुल आयत:120
कुल शब्द:-
कुल वर्ण:12464
रुकु:16
वर्गीकरण:मदीनन सूरा
Revelation Order:112
से शुरू आयत:669