Skip to main content

अल-माइदा आयत ४२ | Al-Maidah 5:42

Listeners
سَمَّٰعُونَ
बहुत ज़्यादा सुनने वाले हैं
to [the] falsehood
لِلْكَذِبِ
झूठ को
devourers
أَكَّٰلُونَ
बहुत ज़्यादा खाने वाले हैं
of the forbidden
لِلسُّحْتِۚ
हराम को
So if
فَإِن
फिर अगर
they come to you
جَآءُوكَ
वो आऐं आपके पास
then judge
فَٱحْكُم
तो फ़ैसला कीजिए
between them
بَيْنَهُمْ
दर्मियान उनके
or
أَوْ
या
turn away
أَعْرِضْ
ऐराज़ कीजिए
from them
عَنْهُمْۖ
उनसे
And if
وَإِن
और अगर
you turn away
تُعْرِضْ
आप ऐराज़ करेंगे
from them
عَنْهُمْ
उनसे
then never
فَلَن
तो हरगिज़ नहीं
will they harm you
يَضُرُّوكَ
वो नुक़सान पहुँचा सकते आपको
(in) anything
شَيْـًٔاۖ
कुछ भी
And if
وَإِنْ
और अगर
you judge
حَكَمْتَ
फ़ैसला करें आप
then judge
فَٱحْكُم
तो फ़ैसला कीजिए
between them
بَيْنَهُم
दर्मियान उनके
with [the] justice
بِٱلْقِسْطِۚ
साथ इन्साफ़ के
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
loves
يُحِبُّ
वो मोहब्बत रखता है
the ones who are just
ٱلْمُقْسِطِينَ
इन्साफ़ करने वालों से

Samma'oona lilkathibi akkaloona lilssuhti fain jaooka faohkum baynahum aw a'rid 'anhum wain tu'rid 'anhum falan yadurrooka shayan wain hakamta faohkum baynahum bialqisti inna Allaha yuhibbu almuqsiteena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे झूठ के लिए कान लगाते रहनेवाले और बड़े हराम खानेवाले है। अतः यदि वे तुम्हारे पास आएँ, तो या तुम उनके बीच फ़ैसला कर दो या उन्हें टाल जाओ। यदि तुम उन्हें टाल गए तो वे तुम्हारा कुछ भी नहीं बिगाड़ सकते। परन्तु यदि फ़ैसला करो तो उनके बीच इनसाफ़ के साथ फ़ैसला करो। निश्चय ही अल्लाह इनसाफ़ करनेवालों से प्रेम करता है

English Sahih:

[They are] avid listeners to falsehood, devourers of [what is] unlawful. So if they come to you, [O Muhammad], judge between them or turn away from them. And if you turn away from them – never will they harm you at all. And if you judge, judge between them with justice. Indeed, Allah loves those who act justly.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये (कम्बख्त) झूठी बातों को बड़े शौक़ से सुनने वाले और बड़े ही हरामख़ोर हैं तो (ऐ रसूल) अगर ये लोग तुम्हारे पास (कोई मामला लेकर) आए तो तुमको इख्तेयार है ख्वाह उनके दरमियान फैसला कर दो या उनसे किनाराकशी करो और अगर तुम किनाराकश रहोगे तो (कुछ ख्याल न करो) ये लोग तुम्हारा हरगिज़ कुछ बिगाड़ नहीं सकते और अगर उनमें फैसला करो तो इन्साफ़ से फैसला करो क्योंकि ख़ुदा इन्साफ़ करने वालों को दोस्त रखता है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वे मिथ्या बातें सुनने वाले, अवैध भक्षी हैं। अतः यदि वे आपके पास आयें, तो आप उनके बीच निर्णय कर दें अथवा उनसे मुँह फेर लें (आपको अधिकार है)। और यदि आप उनसे मुँह फेर लें, तो वे आपको कोई हाणि नहीं पहुँचा सकेंगे और यदि निर्णय करें, तो न्याय के साथ निर्णय करें। निःसंदेह अल्लाह न्यायकारियों से प्रेम करता है।