Skip to main content

अल-माइदा आयत ४१ | Al-Maidah 5:41

O!
يَٰٓأَيُّهَا
Messenger!
ٱلرَّسُولُ
रसूल
Let not
لَا
ना ग़मगीन करें आपको
grieve you
يَحْزُنكَ
ना ग़मगीन करें आपको
those who
ٱلَّذِينَ
वो लोग जो
hasten
يُسَٰرِعُونَ
दौड़ धूप करते हैं
in (to)
فِى
कुफ़्र में
[the] disbelief
ٱلْكُفْرِ
कुफ़्र में
of
مِنَ
उन लोगों में से जो
those who
ٱلَّذِينَ
उन लोगों में से जो
said
قَالُوٓا۟
कहते हैं
"We believe"
ءَامَنَّا
ईमान लाए हम
with their mouths
بِأَفْوَٰهِهِمْ
अपने मुँहों से
and not
وَلَمْ
हालाँकि नहीं
believe
تُؤْمِن
ईमान लाए
their hearts
قُلُوبُهُمْۛ
दिल उनके
and from
وَمِنَ
और उनमें से जो
those who
ٱلَّذِينَ
और उनमें से जो
(are) Jews
هَادُوا۟ۛ
यहूदी बन गए
They (are) listeners
سَمَّٰعُونَ
बहुत ज़्यादा सुनने वाले हैं
to falsehood
لِلْكَذِبِ
झूठ को
(and) listeners
سَمَّٰعُونَ
बहुत ज़्यादा सुनने वाले हैं
for people
لِقَوْمٍ
दूसरी क़ौम के लिए
other
ءَاخَرِينَ
दूसरी क़ौम के लिए
(who have) not
لَمْ
नहीं
come to you
يَأْتُوكَۖ
वो आए आपके पास
They distort
يُحَرِّفُونَ
वो बदल देते हैं
the words
ٱلْكَلِمَ
अलफ़ाज़ को
from
مِنۢ
बाद
after
بَعْدِ
बाद
their context
مَوَاضِعِهِۦۖ
उनकी जगहें (मुक़र्रर होने के)
saying
يَقُولُونَ
वो कहते हैं
"If
إِنْ
अगर
you are given
أُوتِيتُمْ
दिए जाओ तुम
this
هَٰذَا
ये
[so] take it
فَخُذُوهُ
तो ले लो उसे
but if
وَإِن
और अगर
not
لَّمْ
ना
you are given it
تُؤْتَوْهُ
तुम दिए जाओ उसे
then beware"
فَٱحْذَرُوا۟ۚ
पस बचो
And (for) whom
وَمَن
और वो जो
intends
يُرِدِ
इरादा कर ले
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
his trial
فِتْنَتَهُۥ
उसकी आज़माइश का
then never
فَلَن
तो हरगिज़ नहीं
will you have power
تَمْلِكَ
आप मालिक हो सकते
for him
لَهُۥ
उसके लिए
against
مِنَ
अल्लाह से
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह से
anything
شَيْـًٔاۚ
किसी चीज़ के
Those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
(are) the ones
ٱلَّذِينَ
वो जो
never
لَمْ
नहीं
will intend
يُرِدِ
चाहा
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
that
أَن
कि
He purifies
يُطَهِّرَ
वो पाक करे
their hearts
قُلُوبَهُمْۚ
उनके दिलों को
For them
لَهُمْ
उनके लिए
in
فِى
दुनिया में
the world
ٱلدُّنْيَا
दुनिया में
(is) disgrace
خِزْىٌۖ
रुस्वाई है
and for them
وَلَهُمْ
और उनके लिए
in
فِى
आख़िरत में
the Hereafter
ٱلْءَاخِرَةِ
आख़िरत में
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
great
عَظِيمٌ
बहुत बड़ा

Ya ayyuha alrrasoolu la yahzunka allatheena yusari'oona fee alkufri mina allatheena qaloo amanna biafwahihim walam tumin quloobuhum wamina allatheena hadoo samma'oona lilkathibi samma'oona liqawmin akhareena lam yatooka yuharrifoona alkalima min ba'di mawadi'ihi yaqooloona in ooteetum hatha fakhuthoohu wain lam tutawhu faihtharoo waman yuridi Allahu fitnatahu falan tamlika lahu mina Allahi shayan olaika allatheena lam yuridi Allahu an yutahhira quloobahum lahum fee alddunya khizyun walahum fee alakhirati 'athabun 'atheemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ रसूल! जो लोग अधर्म के मार्ग में दौड़ते है, उनके कारण तुम दुखी न होना; वे जिन्होंने अपने मुँह से कहा कि 'हम ईमान ले आए,' किन्तु उनके दिल ईमान नहीं लाए; और वे जो यहूदी हैं, वे झूठ के लिए कान लगाते हैं और उन दूसरे लोगों की भली-भाँति सुनते है, जो तुम्हारे पास नहीं आए, शब्दों को उनका स्थान निश्चित होने के बाद भी उनके स्थान से हटा देते है। कहते है, 'यदि तुम्हें यह (आदेश) मिले, तो इसे स्वीकार करना और यदि न मिले तो बचना।' जिसे अल्लाह ही आपदा में डालना चाहे उसके लिए अल्लाह के यहाँ तुम्हारी कुछ भी नहीं चल सकती। ये वही लोग है जिनके दिलों को अल्लाह ने स्वच्छ करना नहीं चाहा। उनके लिए संसार में भी अपमान और तिरस्कार है और आख़िरत में भी बड़ी यातना है

English Sahih:

O Messenger, let them not grieve you who hasten into disbelief of those who say, "We believe" with their mouths, but their hearts believe not, and from among the Jews. [They are] avid listeners to falsehood, listening to another people who have not come to you. They distort words beyond their [proper] places [i.e., usages], saying, "If you are given this, take it; but if you are not given it, then beware." But he for whom Allah intends fitnah – never will you possess [power to do] for him a thing against Allah. Those are the ones for whom Allah does not intend to purify their hearts. For them in this world is disgrace, and for them in the Hereafter is a great punishment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ रसूल जो लोग कुफ़्र की तरफ़ लपक के चले जाते हैं तुम उनका ग़म न खाओ उनमें बाज़ तो ऐसे हैं कि अपने मुंह से बे तकल्लुफ़ कह देते हैं कि हम ईमान लाए हालॉकि उनके दिल बेईमान हैं और बाज़ यहूदी ऐसे हैं कि (जासूसी की ग़रज़ से) झूठी बातें बहुत (शौक से) सुनते हैं ताकि कुफ्फ़ार के दूसरे गिरोह को जो (अभी तक) तुम्हारे पास नहीं आए हैं सुनाएं ये लोग (तौरैत के) अल्फ़ाज़ की उनके असली मायने (मालूम होने) के बाद भी तहरीफ़ करते हैं (और लोगों से) कहते हैं कि (ये तौरैत का हुक्म है) अगर मोहम्मद की तरफ़ से (भी) तुम्हें यही हुक्म दिया जाय तो उसे मान लेना और अगर यह हुक्म तुमको न दिया जाए तो उससे अलग ही रहना और (ऐ रसूल) जिसको ख़ुदा ख़राब करना चाहता है तो उसके वास्ते ख़ुदा से तुम्हारा कुछ ज़ोर नहीं चल सकता यह लोग तो वही हैं जिनके दिलों को ख़ुदा ने (गुनाहों से) पाक करने का इरादा ही नहीं किया (बल्कि) उनके लिए तो दुनिया में भी रूसवाई है और आख़ेरत में भी (उनके लिए) बड़ा (भारी) अज़ाब होगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे नबी! वे आपको उदासीन न करें, जो कुफ़्र में तीव्र गामी हैं; उनमें से जिन्होंने कहा कि हम ईमान लाये, जबकि उनके दिल ईमान नहीं लाये और उनमें से जो यहूदी हैं, जिनकी दशा ये है कि मिथ्या बातें सुनने के लिए कान लगाये रहते हैं तथा दूसरों के लिए, जो आपके पास नहीं आये, कान लगाये रहते हैं। वे शब्दों को उनके निश्चित स्थानों के पश्चात् वास्तविक अर्थों से फेर देते हैं। वे कहते हैं कि यदि तुम्हें यही आदेश दिया जाये (जो हमने बताया है) तो मान लो और यदि वह न दिये जाओ, तो उससे बचो। (हे नबी!) जिसे अल्लाह अपनी परीक्षा में डालना चाहे, आप उसे अल्लाह से बचाने के लिए कुछ नहीं कर सकते। यही वे हैं, जिनके दिलों को अल्लाह ने पवित्र करना नहीं चाहा। उन्हीं के लिए संसार में अपमान है और उन्हीं के लिए परलोक में घोर[1] यातना है।