Skip to main content

अल-अनाम आयत १२ | Al-Anam 6:12

Say
قُل
कह दीजिए
"To whom (belongs)
لِّمَن
किस के लिए है
what
مَّا
जो कुछ
(is) in
فِى
आसमानों में
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में
and the earth?"
وَٱلْأَرْضِۖ
और ज़मीन में है
Say
قُل
कह दीजिए
"To Allah"
لِّلَّهِۚ
अल्लाह ही के लिए है
He has decreed
كَتَبَ
उस ने लिख दी
upon
عَلَىٰ
अपने नफ़्स पर
Himself
نَفْسِهِ
अपने नफ़्स पर
the Mercy
ٱلرَّحْمَةَۚ
रहमत
Surely He will assemble you
لَيَجْمَعَنَّكُمْ
अलबत्ता वो ज़रूर जमा करेगा तुम्हें
on
إِلَىٰ
तरफ़ दिन
(the) Day
يَوْمِ
तरफ़ दिन
(of) the Resurrection
ٱلْقِيَٰمَةِ
क़यामत के
(there is) no
لَا
नहीं कोई शक
doubt
رَيْبَ
नहीं कोई शक
about it
فِيهِۚ
उसमें
Those who
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
have lost
خَسِرُوٓا۟
नुक़सान में डाला
themselves
أَنفُسَهُمْ
अपने नफ़्सों को
then they
فَهُمْ
पस वो
(do) not
لَا
नहीं वो ईमान लाऐंगे
believe
يُؤْمِنُونَ
नहीं वो ईमान लाऐंगे

Qul liman ma fee alssamawati waalardi qul lillahi kataba 'ala nafsihi alrrahmata layajma'annakum ila yawmi alqiyamati la rayba feehi allatheena khasiroo anfusahum fahum la yuminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कहो, 'आकाशों और धरती में जो कुछ है किसका है?' कह दो, 'अल्लाह ही का है।' उसने दयालुता को अपने ऊपर अनिवार्य कर दिया है। निश्चय ही वह तुम्हें क़ियामत के दिन इकट्ठा करेगा, इसमें कोई सन्देह नहीं है। जिन लोगों ने अपने-आपको घाटे में डाला है, वही है जो ईमान नहीं लाते

English Sahih:

Say, "To whom belongs whatever is in the heavens and earth?" Say, "To Allah." He has decreed upon Himself mercy. He will surely assemble you for the Day of Resurrection, about which there is no doubt. Those who will lose themselves [that Day] do not believe.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल उनसे) पूछो तो कि (भला) जो कुछ आसमान और ज़मीन में है किसका है (वह जवाब देगें) तुम ख़ुद कह दो कि ख़ास ख़ुदा का है उसने अपनी ज़ात पर मेहरबानी लाज़िम कर ली है वह तुम सब के सब को क़यामत के दिन जिसके आने मे कुछ शक़ नहीं ज़रुर जमा करेगा (मगर) जिन लोगों ने अपना आप नुक़सान किया वह तो (क़यामत पर) ईमान न लाएंगें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे नबी!) उनसे पूछिये कि जो कुछ आकाशों तथा धरती में है, वह किसका है? कहोः अल्लाह का है! उसने अपने ऊपर दया को अनिवार्य कर[1] लिया है, वह तुम्हें अवश्य प्रलय के दिन एकत्र[2] करेगा, जिसमें कोई संदेह नहीं। जिन्होंने अपने-आपको क्षति में डाल लिया, वही ईमान नहीं ला रहे हैं।