Skip to main content

अल-मुल्क आयत १९ | Al-Mulk 67:19

Do not
أَوَلَمْ
क्या भला नहीं
they see
يَرَوْا۟
उन्होंने देखा
[to]
إِلَى
तरफ़ परिन्दों के
the birds
ٱلطَّيْرِ
तरफ़ परिन्दों के
above them
فَوْقَهُمْ
अपने ऊपर
spreading (their wings)
صَٰٓفَّٰتٍ
पर फैलाए हुए
and folding?
وَيَقْبِضْنَۚ
और वो समेट लेते हैं
Not
مَا
नहीं
holds them
يُمْسِكُهُنَّ
थामता उन्हें
except
إِلَّا
मगर
the Most Gracious
ٱلرَّحْمَٰنُۚ
रहमान
Indeed He
إِنَّهُۥ
बेशक वो
(is) of every
بِكُلِّ
हर
thing
شَىْءٍۭ
चीज़ को
All-Seer
بَصِيرٌ
ख़ूब देखने वाला है

Awalam yaraw ila alttayri fawqahum saffatin wayaqbidna ma yumsikuhunna illa alrrahmanu innahu bikulli shayin baseerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या उन्होंने अपने ऊपर पक्षियों को पंक्तबन्द्ध पंख फैलाए और उन्हें समेटते नहीं देखा? उन्हें रहमान के सिवा कोई और नहीं थामें रहता। निश्चय ही वह हर चीज़ को देखता है

English Sahih:

Do they not see the birds above them with wings outspread and [sometimes] folded in? None holds them [aloft] except the Most Merciful. Indeed He is, of all things, Seeing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

क्या उन लोगों ने अपने सरों पर चिड़ियों को उड़ते नहीं देखा जो परों को फैलाए रहती हैं और समेट लेती हैं कि ख़ुदा के सिवा उन्हें कोई रोके नहीं रह सकता बेशक वह हर चीज़ को देख रहा है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

क्या उन्होंने नहीं देखा पक्षियों की ओर अपने ऊपर पंख फैलाते तथा सिकोड़ते। उन को अत्यंत कृपाशील ही थामता है। निसंदेह वह प्रत्येक वस्तु को देख रहा है।