Skip to main content

अल-आराफ़ आयत ५९ | Al-Aaraf 7:59

Certainly
لَقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
We sent
أَرْسَلْنَا
भेजा हमने
Nuh
نُوحًا
नूह को
to
إِلَىٰ
तरफ़ उसकी क़ौम के
his people
قَوْمِهِۦ
तरफ़ उसकी क़ौम के
and he said
فَقَالَ
तो उसने कहा
"O my people!
يَٰقَوْمِ
ऐ मेरी क़ौम
Worship
ٱعْبُدُوا۟
इबादत करो
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह की
not
مَا
नहीं है
for you
لَكُم
तुम्हारे लिए
any
مِّنْ
कोई इलाह
god
إِلَٰهٍ
कोई इलाह
other than Him
غَيْرُهُۥٓ
उसके सिवा
Indeed I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
[I] fear
أَخَافُ
मैं डरता हूँ
for you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
punishment
عَذَابَ
अज़ाब से
(of the) Day
يَوْمٍ
बड़े दिन के
Great"
عَظِيمٍ
बड़े दिन के

Laqad arsalna noohan ila qawmihi faqala ya qawmi o'budoo Allaha ma lakum min ilahin ghayruhu innee akhafu 'alaykum 'athaba yawmin 'atheemin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

हमने नूह को उसकी क़ौम के लोगों की ओर भेजा, तो उसने कहा, 'ऐ मेरी क़ौम के लोगो! अल्लाह की बन्दगी करो। उसके अतिरिक्त तुम्हारा कोई पूज्य नहीं। मैं तुम्हारे लिए एक बड़े दिन का यातना से डरता हूँ।'

English Sahih:

We had certainly sent Noah to his people, and he said, "O my people, worship Allah; you have no deity other than Him. Indeed, I fear for you the punishment of a tremendous Day."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

हम यू अपनी आयतों को उलेटफेर कर शुक्रग़ुजार लोगों के वास्ते बयान करते हैं बेशक हमने नूह को उनकी क़ौम के पास (रसूल बनाकर) भेजा तो उन्होनें (लोगों से ) कहाकि ऐ मेरी क़ौम ख़ुदा की ही इबादत करो उसके सिवा तुम्हारा कोई माबूद नहीं है और मैं तुम्हारी निस्बत (क़यामत जैसे) बड़े ख़ौफनाक दिन के अज़ाब से डरता हूँ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हमने नूह़[1] को उसकी जाति की ओर (अपना संदेश पहुँचाने के लिए) भेजा था, तो उसने कहाः हे मेरी जाति के लोगो! (केवल) अल्लाह की इबादत (वंदना) करो, उसके सिवा तुम्हारा कोई पूज्य नहीं। मैं तुमपर एक बड़े दिन की यातना से डरता हूँ।