Skip to main content

अल-मुर्सलत आयत ३ | Al-Mursalat 77:3

And the ones that scatter
وَٱلنَّٰشِرَٰتِ
और उनकी जो फैलाने वाली हैं
far and wide
نَشْرًا
फैलाना

Waalnnashirati nashran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और (बादलों को) उठाकर फैलाती है,

English Sahih:

And [by] the winds that spread [clouds]

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (बादलों को) उभार कर फैला देती हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और बादलों को फैलाने वालियों की![1]