Skip to main content

अल-हुमज़ह आयत ३ | Al-Humazah 104:3

Thinking
يَحْسَبُ
वो समझता है
that
أَنَّ
कि बेशक
his wealth
مَالَهُۥٓ
माल उसका
will make him immortal
أَخْلَدَهُۥ
हमेशगी बख़्शेगा उसे

Yahsabu anna malahu akhladahu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

समझता है कि उसके माल ने उसे अमर कर दिया

English Sahih:

He thinks that his wealth will make him immortal.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

वह समझता है कि उसका माल उसे हमेशा ज़िन्दा बाक़ी रखेगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

क्या वह समझता है कि उसका धन उसे संसार में सदा रखेगा?[1]