Skip to main content

युसूफ आयत ३६ | Yusuf 12:36

And entered
وَدَخَلَ
और दाख़िल हुए
with him
مَعَهُ
साथ उसके
(in) the prison
ٱلسِّجْنَ
क़ैद ख़ाने में
two young men
فَتَيَانِۖ
दो जवान
Said
قَالَ
कहा
one of them
أَحَدُهُمَآ
उन दोनों में से एक ने
"Indeed I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
[I] see myself
أَرَىٰنِىٓ
मैं देखता हूँ ख़ुद को
pressing
أَعْصِرُ
मैं निचोड़ रहा हूँ
wine"
خَمْرًاۖ
शराब
And said
وَقَالَ
और कहा
the other
ٱلْءَاخَرُ
दूसरे ने
"Indeed I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
[I] see myself
أَرَىٰنِىٓ
मैं देखता हूँ ख़ुद को
[I am] carrying
أَحْمِلُ
मैं उठाए हुए हूँ
over
فَوْقَ
अपने सर के ऊपर
my head
رَأْسِى
अपने सर के ऊपर
bread
خُبْزًا
रोटी
(were) eating
تَأْكُلُ
खाते हैं
the birds
ٱلطَّيْرُ
परिन्दे
from it
مِنْهُۖ
उससे
Inform us
نَبِّئْنَا
बताओ हमें
of its interpretation;
بِتَأْوِيلِهِۦٓۖ
ताबीर उसकी
indeed we
إِنَّا
बेशक हम
[we] see you
نَرَىٰكَ
हम देखते हैं तुझे
of
مِنَ
मोहसिनीन में से
the good-doers"
ٱلْمُحْسِنِينَ
मोहसिनीन में से

Wadakhala ma'ahu alssijna fatayani qala ahaduhuma innee aranee a'siru khamran waqala alakharu innee aranee ahmilu fawqa rasee khubzan takulu alttayru minhu nabbina bitaweelihi inna naraka mina almuhsineena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कारागार में दो नव युवकों ने भी उसके साथ प्रवेश किया। उनमें से एक ने कहा, 'मैंने स्वप्न देखा है कि मैं शराब निचोड़ रहा हूँ।' दूसरे ने कहा, 'मैंने देखा कि मैं अपने सिर पर रोटियाँ उठाए हुए हूँ, जिनको पक्षी खा रहे है। हमें इसका अर्थ बता दीजिए। हमें तो आप बहुत ही नेक नज़र आते है।'

English Sahih:

And there entered the prison with him two young men. One of them said, "Indeed, I have seen myself [in a dream] pressing [grapes for] wine." The other said, "Indeed, I have seen myself carrying upon my head [some] bread, from which the birds were eating. Inform us of its interpretation; indeed, we see you to be of those who do good."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

कि कुछ मियाद के लिए उनको क़ैद ही करे दें और यूसुफ के साथ और भी दो जवान आदमी (क़ैद ख़ाने) में दाख़िल हुए (चन्द दिन के बाद) उनमें से एक ने कहा कि मैने ख्वाब में देखा है कि मै (शराब बनाने के वास्ते अंगूर) निचोड़ रहा हूँ और दूसरे ने कहा (मै ने भी ख्वाब में) अपने को देखा कि मै अपने सर पर रोटिया उठाए हुए हूँ और चिड़ियाँ उसे खा रही हैं (यूसुफ) हमको उसकी ताबीर (मतलब) बताओ क्योंकि हम तुमको यक़ीनन नेकी कारों से समझते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और उसके साथ क़ैद में दो युवकों ने प्रवेश किया। उनमें से एक ने कहाः मैंने स्वप्न देखा है कि शराब निचोड़ रहा हूँ और दूसरे ने कहाः मैंने स्वप्न देखा है कि अपने सिर के ऊपर रोटी उठाये हुए हूँ, जिसमें से पक्षी खा रहे हैं। हमें इसका अर्थ (स्वप्नफल) बता दो। हम देख रहे हैं कि तुम सदाचारियों में से हो।