Skip to main content

युसूफ आयत ६९ | Yusuf 12:69

And when
وَلَمَّا
और जब
they entered
دَخَلُوا۟
वो दाख़िल हुए
upon
عَلَىٰ
यूसुफ़ पर
Yusuf
يُوسُفَ
यूसुफ़ पर
he took
ءَاوَىٰٓ
उसने जगह दी
to himself
إِلَيْهِ
अपने पास
his brother
أَخَاهُۖ
अपने भाई को
He said
قَالَ
उसने कहा
"Indeed I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
[I] am
أَنَا۠
मैं ही
your brother
أَخُوكَ
तेरा भाई हूँ
so (do) not
فَلَا
पस ना
grieve
تَبْتَئِسْ
तू रंज कर
for what
بِمَا
बवजह उसके जो
they used (to)
كَانُوا۟
थे वो
do"
يَعْمَلُونَ
वो अमल करते

Walamma dakhaloo 'ala yoosufa awa ilayhi akhahu qala innee ana akhooka fala tabtais bima kanoo ya'maloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जब उन्होंने यूसुफ़ के यहाँ प्रवेश किया तो उसने अपने भाई को अपने पास जगह दी और कहा, 'मैं तेरा भाई हूँ। जो कुछ ये करते रहे हैं, अब तू उसपर दुखी न हो।'

English Sahih:

And when they entered upon Joseph, he took his brother to himself; he said, "Indeed, I am your brother, so do not despair over what they used to do [to me]."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जब ये लोग यूसुफ के पास पहुँचे तो यूसुफ ने अपने हक़ीक़ी (सगे) भाई को अपने पास (बग़ल में) जगह दी और (चुपके से) उस (इब्ने यामीन) से कह दिया कि मै तुम्हारा भाई (यूसुफ) हूँ तो जो कुछ (बदसुलूकियाँ) ये लोग तुम्हारे साथ करते रहे हैं उसका रंज न करो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब वे यूसुफ़ के पास पहुँचे, तो उसने अपने भाई को अपनी शरण में ले लिया (और उससे) कहाः मैं तेरा भाई (यूसुफ़) हूँ। अतः उससे उदासीन न हो, जो (दुरव्यवहार) वे करते आ रहे हैं।