Skip to main content

अन नहल आयत ७९ | An-Nahl 16:79

Do not
أَلَمْ
क्या नहीं
they see
يَرَوْا۟
उन्होंने देखा
towards
إِلَى
तरफ़ परिन्दों के
the birds
ٱلطَّيْرِ
तरफ़ परिन्दों के
controlled
مُسَخَّرَٰتٍ
जो मुसख़्ख़र किए गए हैं
in
فِى
फ़ज़ा में
the midst
جَوِّ
फ़ज़ा में
(of) the sky?
ٱلسَّمَآءِ
आसमान की
None
مَا
नहीं
holds them up
يُمْسِكُهُنَّ
थामे हुए उन्हें
except
إِلَّا
मगर
Allah
ٱللَّهُۗ
अल्लाह
Indeed
إِنَّ
बेशक
in
فِى
इसमें
that
ذَٰلِكَ
इसमें
(are) Signs
لَءَايَٰتٍ
अलबत्ता निशानियां हैं
for a people
لِّقَوْمٍ
उन लोगों के लिए
who believe
يُؤْمِنُونَ
जो ईमान लाते हों

Alam yaraw ila alttayri musakhkharatin fee jawwi alssamai ma yumsikuhunna illa Allahu inna fee thalika laayatin liqawmin yuminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या उन्होंने पक्षियों को नभ मंडल में वशीभूत नहीं देखा? उन्हें तो बस अल्लाह ही थामें हुए होता है। निश्चय ही इसमें उन लोगों के लिए कितनी ही निशानियाँ है जो ईमान लाएँ

English Sahih:

Do they not see the birds controlled in the atmosphere of the sky? None holds them up except Allah. Indeed in that are signs for a people who believe.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

क्या उन लोगों ने परिन्दों की तरफ ग़ौर नहीं किया जो आसमान के नीचे हवा में घिरे हुए (उड़ते रहते हैं) उनको तो बस ख़ुदा ही (गिरने से ) रोकता है बेशक इसमें भी (कुदरते ख़ुदा की) ईमानदारों के लिए बहुत सी निशानियाँ हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

क्या वे पक्षियों को नहीं देखते कि वे अंतरिक्ष में कैसे वशीभूत हैं? उन्हें अल्लाह ही थामता[1] है। वास्तव में, इसमें बहुत-सी निशानियाँ हैं, उन लोगों के लिए, जो ईमान लाते हैं।