Skip to main content

अल बकराह आयत २० | Al-Baqrah 2:20

Almost
يَكَادُ
क़रीब है
the lightning
ٱلْبَرْقُ
बिजली की चमक
snatches away
يَخْطَفُ
कि वो उचक ले
their sight
أَبْصَٰرَهُمْۖ
निगाहें उनकी
Whenever
كُلَّمَآ
जब कभी
it flashes
أَضَآءَ
वो रोशनी करती है
for them
لَهُم
उनके लिए
they walk
مَّشَوْا۟
वो चल पड़ते हैं
in it
فِيهِ
उसमें
and when
وَإِذَآ
और जब
it darkens
أَظْلَمَ
वो अँधेरा कर देती है
on them
عَلَيْهِمْ
उन पर
they stand (still)
قَامُوا۟ۚ
वो खड़े हो जाते हैं
And if
وَلَوْ
और अगर
had willed
شَآءَ
चाहे
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
He would certainly have taken away
لَذَهَبَ
अलबत्ता वो ले जाए
their hearing
بِسَمْعِهِمْ
कान उनके
and their sight
وَأَبْصَٰرِهِمْۚ
और आँखें उनकी
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) on
عَلَىٰ
ऊपर
every
كُلِّ
हर
thing
شَىْءٍ
चीज़ के
All-Powerful
قَدِيرٌ
बहुत क़ुदरत रखने वाला है

Yakadu albarqu yakhtafu absarahum kullama adaa lahum mashaw feehi waitha athlama 'alayhim qamoo walaw shaa Allahu lathahaba bisam'ihim waabsarihim inna Allaha 'ala kulli shayin qadeerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

मानो शीघ्र ही बिजली उनकी आँखों की रौशनी उचक लेने को है; जब भी उनपर चमकती हो, वे चल पड़ते हो और जब उनपर अँधेरा छा जाता हैं तो खड़े हो जाते हो; अगर अल्लाह चाहता तो उनकी सुनने और देखने की शक्ति बिलकुल ही छीन लेता। निस्सन्देह अल्लाह को हर चीज़ की सामर्थ्य प्राप्त है

English Sahih:

The lightning almost snatches away their sight. Every time it lights [the way] for them, they walk therein; but when darkness comes over them, they stand [still]. And if Allah had willed, He could have taken away their hearing and their sight. Indeed, Allah is over all things competent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

क़रीब है कि बिजली उनकी ऑंखों को चौन्धिया दे जब उनके आगे बिजली चमकी तो उस रौशनी में चल खड़े हुए और जब उन पर अंधेरा छा गया तो (ठिठके के) खड़े हो गए और खुदा चाहता तो यूँ भी उनके देखने और सुनने की कूवतें छीन लेता बेशक खुदा हर चीज़ पर क़ादिर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

विद्धुत उनकी आँखों को उचक लेने के समीप हो जाती है। जब उनके लिए चमकती है, तो उसके उजाले में चलने लगते हैं और जब अंधेरा हो जाता है, तो खड़े हो जाते हैं और यदि अल्लाह चाहे, तो उनके कानों को बहरा और उनकी आँखों का अंधा कर दे। निश्चय अल्लाह जो चाहे, कर सकता है।