Skip to main content

अल बकराह आयत २४९ | Al-Baqrah 2:249

Then when
فَلَمَّا
पस जब
set out
فَصَلَ
जुदा हुआ
Talut
طَالُوتُ
तालूत
with the forces
بِٱلْجُنُودِ
साथ लश्करों के
he said
قَالَ
उसने कहा
"Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
will test you
مُبْتَلِيكُم
आज़माने वाला है तुम्हें
with a river
بِنَهَرٍ
एक नहर से
So whoever
فَمَن
तो जिसने
drinks
شَرِبَ
पिया
from it
مِنْهُ
उससे
then he is not
فَلَيْسَ
तो नहीं वो
from me
مِنِّى
मुझसे
and whoever
وَمَن
और जिसने
(does) not
لَّمْ
ना
taste it
يَطْعَمْهُ
चखा उसे
then indeed, he
فَإِنَّهُۥ
तो बेशक वो
(is) from me
مِنِّىٓ
मुझसे है
except
إِلَّا
मगर
whoever
مَنِ
जो
takes
ٱغْتَرَفَ
चुल्लु भर ले
(in the) hollow
غُرْفَةًۢ
एक चुल्लु
(of) his hand"
بِيَدِهِۦۚ
अपने हाथ से
Then they drank
فَشَرِبُوا۟
तो उन्होंने पी लिया
from it
مِنْهُ
उससे
except
إِلَّا
मगर
a few
قَلِيلًا
बहुत थोड़े
of them
مِّنْهُمْۚ
उनमें से
Then when
فَلَمَّا
फिर जब
he crossed it
جَاوَزَهُۥ
उसने पार किया उसे
he
هُوَ
उसने
and those who
وَٱلَّذِينَ
और उन्होंने जो
believed
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए थे
with him
مَعَهُۥ
साथ उसके
they said
قَالُوا۟
उन्होंने कहा
"No
لَا
नहीं कोई ताक़त
strength
طَاقَةَ
नहीं कोई ताक़त
for us
لَنَا
हमारे लिए
today
ٱلْيَوْمَ
आज
against Jalut
بِجَالُوتَ
साथ जालूत
and his troops"
وَجُنُودِهِۦۚ
और उसके लश्करों के
Said
قَالَ
कहा
those who
ٱلَّذِينَ
उन्होंने जो
were certain
يَظُنُّونَ
यक़ीन रखते थे
that they
أَنَّهُم
कि बेशक वो
(would) meet
مُّلَٰقُوا۟
मुलाक़ात करने वाले हैं
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह से
"How many
كَم
कितनी ही
of
مِّن
जमाअतें
a company
فِئَةٍ
जमाअतें
small
قَلِيلَةٍ
कम (तादाद) की
overcame
غَلَبَتْ
ग़ालिब आ जाती है
a company
فِئَةً
जमाअतों पर
large
كَثِيرَةًۢ
कसीर (तादाद) की
by (the) permission
بِإِذْنِ
अल्लाह के इज़्न से
(of) Allah
ٱللَّهِۗ
अल्लाह के इज़्न से
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) with
مَعَ
साथ है
the patient ones"
ٱلصَّٰبِرِينَ
सब्र करने वालों के

Falamma fasala talootu bialjunoodi qala inna Allaha mubtaleekum binaharin faman shariba minhu falaysa minnee waman lam yat'amhu fainnahu minnee illa mani ightarafa ghurfatan biyadihi fashariboo minhu illa qaleelan minhum falamma jawazahu huwa waallatheena amanoo ma'ahu qaloo la taqata lana alyawma bijaloota wajunoodihi qala allatheena yathunnoona annahum mulaqoo Allahi kam min fiatin qaleelatin ghalabat fiatan katheeratan biithni Allahi waAllahu ma'a alssabireena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर तब तालूत सेनाएँ लेकर चला तो उनने कहा, 'अल्लाह निश्चित रूप से एक नदी द्वारा तुम्हारी परीक्षा लेनेवाला है। तो जिसने उसका पानी पी लिया, वह मुझमें से नहीं है और जिसने उसको नहीं चखा, वही मुझमें से है। यह और बात है कि कोई अपने हाथ से एक चुल्लू भर ले ले।' फिर उनमें से थोड़े लोगों के सिवा सभी ने उसका पानी पी लिया, फिर जब तालूत और ईमानवाले जो उसके साथ थे नदी पार कर गए तो कहने लगे, 'आज हममें जालूत और उसकी सेनाओं का मुक़ाबला करने की शक्ति नहीं हैं।' इस पर लोगों ने, जो समझते थे कि उन्हें अल्लाह से मिलना है, कहा, 'कितनी ही बार एक छोटी-सी टुकड़ी ने अल्लाह की अनुज्ञा से एक बड़े गिरोह पर विजय पाई है। अल्लाह तो जमनेवालो के साथ है।'

English Sahih:

And when Saul went forth with the soldiers, he said, "Indeed, Allah will be testing you with a river. So whoever drinks from it is not of me, and whoever does not taste it is indeed of me, excepting one who takes [from it] in the hollow of his hand." But they drank from it, except a [very] few of them. Then when he had crossed it along with those who believed with him, they said, "There is no power for us today against Goliath and his soldiers." But those who were certain that they would meet Allah said, "How many a small company has overcome a large company by permission of Allah. And Allah is with the patient."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर जब तालूत लशकर समैत (शहर ऐलिया से) रवाना हुआ तो अपने साथियों से कहा देखो आगे एक नहर मिलेगी इस से यक़ीनन ख़ुदा तुम्हारे सब्र की आज़माइश करेगा पस जो शख्स उस का पानी पीयेगा मुझे (कुछ वास्ता) नही रखता और जो उस को नही चखेगा वह बेशक मुझ से होगा मगर हाँ जो अपने हाथ से एक (आधा चुल्लू भर के पी) ले तो कुछ हर्ज नही पस उन लोगों ने न माना और चन्द आदमियों के सिवा सब ने उस का पानी पिया ख़ैर जब तालूत और जो मोमिनीन उन के साथ थे नहर से पास हो गए तो (ख़ास मोमिनों के सिवा) सब के सब कहने लगे कि हम में तो आज भी जालूत और उसकी फौज से लड़ने की सकत नहीं मगर वह लोग जिनको यक़ीन है कि एक दिन ख़ुदा को मुँह दिखाना है बेधड़क बोल उठे कि ऐसा बहुत हुआ कि ख़ुदा के हुक्म से छोटी जमाअत बड़ी जमाअत पर ग़ालिब आ गयी है और ख़ुदा सब्र करने वालों का साथी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर जब तालूत सेना लेकर चला, तो उसने कहाः निश्चय अल्लाह एक नहर द्वारा तुम्हारी परीक्षा लेने वाला है। जो उसमें से पियेगा वह मेरा साथ नहीं देगा और जो उसे नहीं चखेगा, वह मेरा साथ देगा, परन्तु जो अपने हाथ से चुल्लू भर पी ले, (तो कोई दोष नहीं)। तो थोड़े के सिवा सबने उसमें से पी लिया। फिर जब उस (तालूत) ने और जो उसके साथ ईमान लाये, उसे (नहर को) पार किया, तो कहाः आज हममें (शत्रु) जालूत और उसकी सेना से युध्द करने की शक्ति नहीं। (परन्तु) जो समझ रहे थे कि उन्हें अल्लाह से मिलना है, उन्होंने कहाः बहुत-से छोटे दल, अल्लाह की अनुमति से, भारी दलों पर विजय प्राप्त कर चुके हैं और अल्लाह सहनशीलों के साथ है।