Skip to main content

अल बकराह आयत २६ | Al-Baqrah 2:26

Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) not
لَا
नहीं हया फ़रमाता/शर्माता
ashamed
يَسْتَحْىِۦٓ
नहीं हया फ़रमाता/शर्माता
to
أَن
कि
set forth
يَضْرِبَ
वो बयान करे
an example
مَثَلًا
कोई मिसाल
(like) even
مَّا
ख़्वाह
(of) a mosquito
بَعُوضَةً
मादा मच्छर की हो
and (even) something
فَمَا
या जो
above it
فَوْقَهَاۚ
ऊपर है उसके
Then as for
فَأَمَّا
तो रहे
those who
ٱلَّذِينَ
वो जो
believed
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
[thus] they will know
فَيَعْلَمُونَ
पस वो इल्म रखते हैं
that it
أَنَّهُ
कि बेशक वो
(is) the truth
ٱلْحَقُّ
हक़ है
from
مِن
उनके रब की तरफ़ से
their Lord
رَّبِّهِمْۖ
उनके रब की तरफ़ से
And as for
وَأَمَّا
और रहे
those who
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
disbelieved
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
[thus] they will say
فَيَقُولُونَ
तो वो कहते हैं
what
مَاذَآ
क्या
(did) intend
أَرَادَ
इरादा किया
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
by this
بِهَٰذَا
साथ इस
example?
مَثَلاًۘ
मिसाल के
He lets go astray
يُضِلُّ
वो गुमराह करता है
by it
بِهِۦ
साथ इसके
many
كَثِيرًا
कसीर (तादाद) को
and He guides
وَيَهْدِى
और वो हिदायत देता है
by it
بِهِۦ
साथ इसके
many
كَثِيرًاۚ
कसीर (तादाद) को
And not
وَمَا
और नहीं
He lets go astray
يُضِلُّ
वो गुमराह करता
by it
بِهِۦٓ
साथ इसके
except
إِلَّا
मगर
the defiantly disobedient
ٱلْفَٰسِقِينَ
फ़ासिक़ों को

Inna Allaha la yastahyee an yadriba mathalan ma ba'oodatan fama fawqaha faamma allatheena amanoo faya'lamoona annahu alhaqqu min rabbihim waamma allatheena kafaroo fayaqooloona matha arada Allahu bihatha mathalan yudillu bihi katheeran wayahdee bihi katheeran wama yudillu bihi illa alfasiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निस्संदेह अल्लाह नहीं शरमाता कि वह कोई मिसाल पेश करे चाहे वह हो मच्छर की, बल्कि उससे भी बढ़कर किसी तुच्छ चीज़ की। फिर जो ईमान लाए है वे तो जानते है कि वह उनके रब की ओर से सत्य हैं; रहे इनकार करनेवाले तो वे कहते है, 'इस मिसाल से अल्लाह का अभिप्राय क्या है?' इससे वह बहुतों को भटकने देता है और बहुतों को सीधा मार्ग दिखा देता है, मगर इससे वह केवल अवज्ञाकारियों ही को भटकने देता है

English Sahih:

Indeed, Allah is not timid to present an example – that of a mosquito or what is smaller than it. And those who have believed know that it is the truth from their Lord. But as for those who disbelieve, they say, "What did Allah intend by this as an example?" He misleads many thereby and guides many thereby. And He misleads not except the defiantly disobedient,

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक खुदा मच्छर या उससे भी बढ़कर (हक़ीर चीज़) की कोई मिसाल बयान करने में नहीं झेंपता पस जो लोग ईमान ला चुके हैं वह तो ये यक़ीन जानते हैं कि ये (मिसाल) बिल्कुल ठीक है और ये परवरदिगार की तरफ़ से है (अब रहे) वह लोग जो काफ़िर है पस वह बोल उठते हैं कि खुदा का उस मिसाल से क्या मतलब है, ऐसी मिसाल से ख़ुदा बहुतेरों की हिदायत करता है मगर गुमराही में छोड़ता भी है तो ऐसे बदकारों को

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अल्लाह,[1] मच्छर अथवा उससे तुच्छ चीज़ से उपमा (मिसाल) देने से नहीं लज्जाता। जो ईमान लाये, वे जानते हैं कि ये उनके पालनहार की ओर से उचित है और जो काफ़िर (विश्वासहीन) हो गये, वे कहते हैं कि अल्लाह ने इससे उपमा देकर क्या निश्चय किया है? अल्लाह इससे बहुतों को गुमराह (कुपथ) करता है और बहुतों को मार्गदर्शन देता है तथा जो अवज्ञाकारी हैं, उन्हीं को कुपथ करता है।