Skip to main content

अल बकराह आयत ३० | Al-Baqrah 2:30

And when
وَإِذْ
और जब
said
قَالَ
फ़रमाया
your Lord
رَبُّكَ
आपके रब ने
to the angels
لِلْمَلَٰٓئِكَةِ
फ़रिश्तों से
"Indeed, I (am)
إِنِّى
बेशक मैं
going to place
جَاعِلٌ
बनाने वाला हूँ
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
a vicegerent
خَلِيفَةًۖ
एक ख़लीफ़ा
they said
قَالُوٓا۟
उन्होंने कहा
"Will You place
أَتَجْعَلُ
क्या तू बनाएगा
in it
فِيهَا
इसमें
(one) who
مَن
उसको जो
will spread corruption
يُفْسِدُ
फ़साद करेगा
in it
فِيهَا
इसमें
and will shed
وَيَسْفِكُ
और वो बहाएगा
[the] blood[s]
ٱلدِّمَآءَ
ख़ून
while we
وَنَحْنُ
और हम
[we] glorify (You)
نُسَبِّحُ
हम तस्बीह करते हैं
with Your praises
بِحَمْدِكَ
साथ तेरी तारीफ़ के
and we sanctify
وَنُقَدِّسُ
और हम पाकीज़गी बयान करते हैं
[to] You
لَكَۖ
तेरी
He said
قَالَ
फ़रमाया
"Indeed, I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
[I] know
أَعْلَمُ
मैं जानता हूँ
what
مَا
जो
(do) not
لَا
नहीं
you know"
تَعْلَمُونَ
तुम जानते

Waith qala rabbuka lilmalaikati innee ja'ilun fee alardi khaleefatan qaloo ataj'alu feeha man yufsidu feeha wayasfiku alddimaa wanahnu nusabbihu bihamdika wanuqaddisu laka qala innee a'lamu ma la ta'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और याद करो जब तुम्हारे रब ने फरिश्तों से कहा कि 'मैं धरती में (मनुष्य को) खलीफ़ा (सत्ताधारी) बनानेवाला हूँ।' उन्होंने कहा, 'क्या उसमें उसको रखेगा, जो उसमें बिगाड़ पैदा करे और रक्तपात करे और हम तेरा गुणगान करते और तुझे पवित्र कहते हैं?' उसने कहा, 'मैं जानता हूँ जो तुम नहीं जानते।'

English Sahih:

And [mention, O Muhammad], when your Lord said to the angels, "Indeed, I will make upon the earth a successive authority." They said, "Will You place upon it one who causes corruption therein and sheds blood, while we exalt You with praise and declare Your perfection?" He [Allah] said, "Indeed, I know that which you do not know."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ऐ रसूल) उस वक्त क़ो याद करो जब तुम्हारे परवरदिगार ने फ़रिश्तों से कहा कि मैं (अपना) एक नाएब ज़मीन में बनानेवाला हूँ (फरिश्ते ताज्जुब से) कहने लगे क्या तू ज़मीन ऐसे शख्स को पैदा करेगा जो ज़मीन में फ़साद और खूँरेज़ियाँ करता फिरे हालाँकि (अगर) ख़लीफा बनाना है (तो हमारा ज्यादा हक़ है) क्योंकि हम तेरी तारीफ व तसबीह करते हैं और तेरी पाकीज़गी साबित करते हैं तब खुदा ने फरमाया इसमें तो शक ही नहीं कि जो मैं जानता हूँ तुम नहीं जानते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और (हे नबी! याद करो) जब आपके पालनहार ने फ़रिश्तों से कहा कि मैं धरती में एक ख़लीफ़ा[1] बनाने जा रहा हूँ। वे बोलेः क्या तू उसमें उसे बनायेग, जो उसमें उपद्रव करेगा तथा रक्त बहायेगा? जबकि हम तेरी प्रशंसा के साथ तेरे गुण और पवित्रता का गान करते हैं! (अल्लाह) ने कहाः जो मैं जानता हूँ, वह तुम नहीं जानते।