Skip to main content

अत-तहा आयत १६ | At-Tahaa 20:16

So (do) not
فَلَا
पस ना
(let) avert you
يَصُدَّنَّكَ
हरगिज़ रोके तुझे
from it
عَنْهَا
उससे
(one) who
مَن
वो जो
(does) not
لَّا
नहीं वो ईमान रखता
believe
يُؤْمِنُ
नहीं वो ईमान रखता
in it
بِهَا
उस पर
and follows
وَٱتَّبَعَ
और वो पैरवी करता है
his desires
هَوَىٰهُ
अपनी ख़्वाहिशे नफ़्स की
lest you perish
فَتَرْدَىٰ
वरना तू हलाक हो जाएगा

Fala yasuddannaka 'anha man la yuminu biha waittaba'a hawahu fatarda

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अतः जो कोई उसपर ईमान नहीं लाता और अपनी वासना के पीछे पड़ा है, वह तुझे उससे रोक न दे, अन्यथा तू विनष्ट हो जाएगा

English Sahih:

So do not let one avert you from it who does not believe in it and follows his desire, for you [then] would perish.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो (कहीं) ऐसा न हो कि जो शख्स उसे दिल से नहीं मानता और अपनी नफ़सियानी ख्वाहिश के पीछे पड़ा वह तुम्हें इस (फिक्र) से रोक दे तो तुम तबाह हो जाओगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अतः, तुम्हें न रोक दे, उस ( के विश्वास) से, जो उसपर ईमान (विश्वास) नहीं रखता और अनुसरण किया अपनी इच्छा का, अन्यथा तेरा नाश हो जायेगा।