Skip to main content

अत-तहा आयत ८२ | At-Tahaa 20:82

But indeed I Am
وَإِنِّى
और बेशक मैं
the Perpetual Forgiver
لَغَفَّارٌ
अलबत्ता बहुत बख़्शने वाला हूँ
of whoever
لِّمَن
उसे जिसने
repents
تَابَ
तौबा की
and believes
وَءَامَنَ
और वो ईमान लाया
and does
وَعَمِلَ
और उसने अमल किए
righteous (deeds)
صَٰلِحًا
नेक
then
ثُمَّ
फिर
remains guided
ٱهْتَدَىٰ
वो हिदायत पर रहा

Wainnee laghaffarun liman taba waamana wa'amila salihan thumma ihtada

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जो तौबा कर ले और ईमान लाए और अच्छा कर्म करे, फिर सीधे मार्ग पर चलता रहे, उसके लिए निश्चय ही मैं अत्यन्त क्षमाशील हूँ।' -

English Sahih:

But indeed, I am the Perpetual Forgiver of whoever repents and believes and does righteousness and then continues in guidance.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जो शख्स तौबा करे और ईमान लाए और अच्छे काम करे फिर साबित क़दम रहे तो हम उसको ज़रूर बख्शने वाले हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मैं निश्चय बड़ा क्षमाशील हूँ उसके लिए, जिसने क्षमा याचना की तथा ईमान लाया और सदाचार किया फिर सुपथ पर रहा।