Skip to main content

अल-हज आयत १९ | Al-Hajj 22:19

These two
هَٰذَانِ
ये दो
opponents
خَصْمَانِ
झगड़ने वाले हैं
dispute
ٱخْتَصَمُوا۟
जिन्होंने झगड़ा किया
concerning
فِى
अपने रब के बारे में
their Lord
رَبِّهِمْۖ
अपने रब के बारे में
But those who
فَٱلَّذِينَ
तो वो जिन्होंने
disbelieved
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
will be cut out
قُطِّعَتْ
काटे जा चुके हैं
for them
لَهُمْ
उनके लिए
garments
ثِيَابٌ
कपड़े
of
مِّن
आग से
fire
نَّارٍ
आग से
Will be poured
يُصَبُّ
डाला जाएगा
over
مِن
ऊपर से
over
فَوْقِ
ऊपर से
their heads
رُءُوسِهِمُ
उनके सिरों के
[the] scalding water
ٱلْحَمِيمُ
खौलता पानी

Hathani khasmani ikhtasamoo fee rabbihim faallatheena kafaroo qutti'at lahum thiyabun min narin yusabbu min fawqi ruoosihimu alhameemu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ये दो विवादी हैं, जो अपने रब के विषय में आपस में झगड़े। अतः जिन लोगों ने कुफ्र किया उनके लिए आग के वस्त्र काटे जा चुके है। उनके सिरों पर खौलता हुआ पानी डाला जाएगा

English Sahih:

These are two adversaries who have disputed over their Lord. But those who disbelieved will have cut out for them garments of fire. Poured upon their heads will be scalding water

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये दोनों (मोमिन व काफिर) दो फरीक़ हैं आपस में अपने परवरदिगार के बारे में लड़ते हैं ग़रज़ जो लोग काफ़िर हो बैठे उनके लिए तो आग के कपड़े केता किए गए हैं (वह उन्हें पहनाए जाएँगें और) उनके सरों पर खौलता हुआ पानी उँडेला जाएगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

ये दो पक्ष हैं, जिन्होंने विभेद किया[1] अपने पालनहार के विषय में, तो इनमें से काफ़िरों के लिए ब्योंत दिये गये हैं अग्नि के वस्त्र, उनके सिरों पर धारा बहायी जायेगी खोलते हुए पानी की।