Skip to main content

अल-हज आयत २७ | Al-Hajj 22:27

And proclaim
وَأَذِّن
और एलान कर दो
to
فِى
लोगों में
[the] mankind
ٱلنَّاسِ
लोगों में
[of] the Pilgrimage;
بِٱلْحَجِّ
हज का
they will come to you
يَأْتُوكَ
वो आऐंगे तेरे पास
(on) foot
رِجَالًا
पैदल
and on
وَعَلَىٰ
और ऊपर
every
كُلِّ
हर
lean camel;
ضَامِرٍ
लाग़र ऊँट के
they will come
يَأْتِينَ
वो आऐंगे
from
مِن
हर कुशादा रास्ते से
every
كُلِّ
हर कुशादा रास्ते से
mountain highway
فَجٍّ
हर कुशादा रास्ते से
distant
عَمِيقٍ
दूर दराज़ के

Waaththin fee alnnasi bialhajji yatooka rijalan wa'ala kulli damirin yateena min kulli fajjin 'ameeqin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और लोगों में हज के लिए उद्घोषणा कर दो कि 'वे प्रत्येक गहरे मार्ग से, पैदल भी और दुबली-दुबली ऊँटनियों पर, तेरे पास आएँ

English Sahih:

And proclaim to the people the Hajj [pilgrimage]; they will come to you on foot and on every lean camel; they will come from every distant pass –

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और लोगों को हज की ख़बर कर दो कि लोग तुम्हारे पास (ज़ूक दर ज़ूक) ज्यादा और हर तरह की दुबली (सवारियों पर जो राह दूर दराज़ तय करके आयी होगी चढ़-चढ़ के) आ पहुँचेगें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और घोषणा कर दो लोगों में ह़ज की, वे आयेंगे तेरे पास पैदल तथा प्रत्येक दुबली-पतली स्वारियों पर, जो प्रत्येक दूरस्थ मार्ग से आयेंगी।