Skip to main content

अल-अनकबूत आयत ४५ | Al-Ankabut 29:45

Recite
ٱتْلُ
तिलावत कीजिए
what
مَآ
जो
has been revealed
أُوحِىَ
वही किया गया
to you
إِلَيْكَ
आपकी तरफ़
of
مِنَ
किताब में से
the Book
ٱلْكِتَٰبِ
किताब में से
and establish
وَأَقِمِ
और क़ायम कीजिए
the prayer
ٱلصَّلَوٰةَۖ
नमाज़
Indeed
إِنَّ
बेशक
the prayer
ٱلصَّلَوٰةَ
नमाज़
prevents
تَنْهَىٰ
रोकती है
from
عَنِ
बेहयाई से
the immorality
ٱلْفَحْشَآءِ
बेहयाई से
and evil deeds
وَٱلْمُنكَرِۗ
और बुराई से
and surely (the) remembrance
وَلَذِكْرُ
और अलबत्ता ज़िक्र
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
(is) greatest
أَكْبَرُۗ
सबसे बड़ा है
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
knows
يَعْلَمُ
वो जानता है
what
مَا
जो कुछ
you do
تَصْنَعُونَ
तुम करते हो

Otlu ma oohiya ilayka mina alkitabi waaqimi alssalata inna alssalata tanha 'ani alfahshai waalmunkari walathikru Allahi akbaru waAllahu ya'lamu ma tasna'oona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उस किताब को पढ़ो जो तुम्हारी ओर प्रकाशना के द्वारा भेजी गई है, और नमाज़ का आयोजन करो। निस्संदेह नमाज़ अश्लीलता और बुराई से रोकती है। और अल्लाह का याद करना तो बहुत बड़ी चीज़ है। अल्लाह जानता है जो कुछ तुम रचते और बनाते हो

English Sahih:

Recite, [O Muhammad], what has been revealed to you of the Book and establish prayer. Indeed, prayer prohibits immorality and wrongdoing, and the remembrance of Allah is greater. And Allah knows that which you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) जो किताब तुम्हारे पास नाज़िल की गयी है उसकी तिलावत करो और पाबन्दी से नमाज़ पढ़ो बेशक नमाज़ बेहयाई और बुरे कामों से बाज़ रखती है और ख़ुदा की याद यक़ीनी बड़ा मरतबा रखती है और तुम लोग जो कुछ करते हो ख़ुदा उससे वाक़िफ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

आप उस पुस्तक को पढ़ें, जो वह़्यी (प्रकाशना) की गयी है आपकी ओर तथा स्थापना करें नमाज़ की। वास्तव में, नमाज़ रोकती है निर्लज्जा तथा दुराचार से और अल्लाह का स्मरण ही सर्व महान है और अल्लाह जानता है, जो कुछ तुम करते[1] हो।