Skip to main content

अल-अनकबूत आयत ६५ | Al-Ankabut 29:65

And when
فَإِذَا
फिर जब
they embark
رَكِبُوا۟
वो सवार होते हैं
[in]
فِى
कश्ती में
the ship
ٱلْفُلْكِ
कश्ती में
they call
دَعَوُا۟
वो पुकारते हैं
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह को
(being) sincere
مُخْلِصِينَ
ख़ालिस करने वाले हो कर
to Him
لَهُ
उसके लिए
(in) the religion
ٱلدِّينَ
दीन को
But when
فَلَمَّا
तो जब
He delivers them
نَجَّىٰهُمْ
वो निजात देता है उन्हें
to
إِلَى
तरफ़ ख़ुश्की के
the land
ٱلْبَرِّ
तरफ़ ख़ुश्की के
behold
إِذَا
यकायक
they
هُمْ
वो
associate partners (with Him)
يُشْرِكُونَ
वो शिर्क करने लगते हैं

Faitha rakiboo fee alfulki da'awoo Allaha mukhliseena lahu alddeena falamma najjahum ila albarri itha hum yushrikoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जब वे नौका में सवार होते है तो वे अल्लाह को उसके दीन (आज्ञापालन) के लिए निष्ठा वान होकर पुकारते है। किन्तु जब वह उन्हें बचाकर शु्ष्क भूमि तक ले आता है तो क्या देखते है कि वे लगे (अल्लाह का साथ) साझी ठहराने

English Sahih:

And when they board a ship, they supplicate Allah, sincere to Him in religion [i.e., faith and hope]. But when He delivers them to the land, at once they associate others with Him

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर जब ये लोग कश्ती में सवार होते हैं तो निहायत ख़ुलूस से उसकी इबादत करने वाले बन कर ख़ुदा से दुआ करते हैं फिर जब उन्हें ख़ुश्की में (पहुँचा कर) नजात देता है तो फौरन शिर्क करने लगते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब वे नाव पर सवार होते हैं, तो अल्लाह के लिए धर्म को शुध्द करके उसे पुकारते हैं। फिर जब वह बचा लाता है उन्हें थल तक, तो फिर शिर्क करने लगते हैं।