Skip to main content

आले इमरान आयत १४० | Aal-e-Imran 3:140

If
إِن
अगर
touched you
يَمْسَسْكُمْ
पहुँचा तुम्हें
a wound
قَرْحٌ
कोई ज़ख़्म
so certainly
فَقَدْ
तो तहक़ीक़
(has) touched
مَسَّ
पहुँच चुका है
the people
ٱلْقَوْمَ
उस क़ौम को
wound
قَرْحٌ
ज़ख़्म
like it
مِّثْلُهُۥۚ
मानिन्द उसी के
And this
وَتِلْكَ
और ये
[the] days
ٱلْأَيَّامُ
दिन
We alternate them
نُدَاوِلُهَا
हम फेरते रहते हैं उन्हें
among
بَيْنَ
दर्मियान
the people
ٱلنَّاسِ
लोगों के
[and] so that makes evident
وَلِيَعْلَمَ
और ताकि जान ले
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
those who
ٱلَّذِينَ
उनको जो
believe[d]
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
and take
وَيَتَّخِذَ
और वो बना ले
from you
مِنكُمْ
तुम में से
martyrs
شُهَدَآءَۗ
गवाह/शहीद
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(does) not
لَا
नहीं वो मोहब्बत रखता
love
يُحِبُّ
नहीं वो मोहब्बत रखता
the wrongdoers
ٱلظَّٰلِمِينَ
ज़ालिमों से

In yamsaskum qarhun faqad massa alqawma qarhun mithluhu watilka alayyamu nudawiluha bayna alnnasi waliya'lama Allahu allatheena amanoo wayattakhitha minkum shuhadaa waAllahu la yuhibbu alththalimeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि तुम्हें आघात पहुँचे तो उन लोगों को भी ऐसा ही आघात पहुँच चुका है। ये युद्ध के दिन हैं, जिन्हें हम लोगों के बीच डालते ही रहते है और ऐसा इसलिए हुआ कि अल्लाह ईमानवालों को जान ले और तुममें से कुछ लोगों को गवाह बनाए - और अत्याचारी अल्लाह को प्रिय नहीं है

English Sahih:

If a wound should touch you – there has already touched the [opposing] people a wound similar to it. And these days [of varying conditions] We alternate among the people so that Allah may make evident those who believe and [may] take to Himself from among you martyrs – and Allah does not like the wrongdoers –

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

अगर (जंगे ओहद में) तुमको ज़ख्म लगा है तो उसी तरह (बदर में) तुम्हारे फ़रीक़ (कुफ्फ़ार को) भी ज़ख्म लग चुका है (उस पर उनकी हिम्मत तो न टूटी) ये इत्तफ़ाक़ाते ज़माना हैं जो हम लोगों के दरमियान बारी बारी उलट फेर किया करते हैं और ये (इत्तफ़ाक़ी शिकस्त इसलिए थी) ताकि ख़ुदा सच्चे ईमानदारों को (ज़ाहिरी) मुसलमानों से अलग देख लें और तुममें से बाज़ को दरजाए शहादत पर फ़ायज़ करें और ख़ुदा (हुक्मे रसूल से) सरताबी करने वालों को दोस्त नहीं रखता

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

यदि तुम्हें कोई घाव लगा है, तो क़ौम (शत्रु)[1] को भी इसी के समान घाव लग चुका है तथा उन दिनों को हम लोगों के बीच फेरते[2] रहते हैं। ताकि अल्लाह उन लोगों को जान ले,[1] जो ईमान लाये और तुममें से साक्षी बनाये और अल्लाह अत्याचारियों से प्रेम नहीं करता।