Skip to main content

आले इमरान आयत १५४ | Aal-e-Imran 3:154

Then
ثُمَّ
फिर
He sent down
أَنزَلَ
उसने उतारा
upon you
عَلَيْكُم
तुम पर
from
مِّنۢ
बाद
after
بَعْدِ
बाद
the distress
ٱلْغَمِّ
ग़म के
security
أَمَنَةً
अमन
slumber
نُّعَاسًا
एक ऊँघ
overcoming
يَغْشَىٰ
ढाँप लिया उसने
a group
طَآئِفَةً
एक गिरोह को
of you
مِّنكُمْۖ
तुम में से
while a group
وَطَآئِفَةٌ
और एक गिरोह
certainly
قَدْ
तहक़ीक़
worried [them]
أَهَمَّتْهُمْ
फ़िक्र में डाला उन्हें
(about) themselves
أَنفُسُهُمْ
उनके नफ़्सों ने
thinking
يَظُنُّونَ
वो गुमान कर रहे थे
about Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह के बारे में
other than
غَيْرَ
नाहक़
the truth
ٱلْحَقِّ
नाहक़
(the) thought
ظَنَّ
गुमान करना
(of) [the] ignorance
ٱلْجَٰهِلِيَّةِۖ
जाहिलियत का
saying
يَقُولُونَ
वो कह रहे थे
"Is (there)
هَل
क्या है
for us
لَّنَا
हमारे लिए
from
مِنَ
मामले में से
the matter
ٱلْأَمْرِ
मामले में से
any
مِن
कोई चीज़
thing?"
شَىْءٍۗ
कोई चीज़
Say
قُلْ
कह दीजिए
"Indeed
إِنَّ
बेशक
the matter
ٱلْأَمْرَ
मामला
all (of) it
كُلَّهُۥ
सब का सब
(is) for Allah"
لِلَّهِۗ
अल्लाह ही के लिए है
They hide
يُخْفُونَ
वो छुपा रहे थे
in
فِىٓ
अपने नफ़्सों में
themselves
أَنفُسِهِم
अपने नफ़्सों में
what
مَّا
जो
not
لَا
नहीं वो ज़ाहिर कर रहे थे
they reveal
يُبْدُونَ
नहीं वो ज़ाहिर कर रहे थे
to you
لَكَۖ
आपके लिए
They say
يَقُولُونَ
वो कह रहे थे
"if
لَوْ
अगर
was
كَانَ
होता
for us
لَنَا
हमारे लिए
from
مِنَ
मामले में से
the matter
ٱلْأَمْرِ
मामले में से
anything
شَىْءٌ
कुछ भी
not
مَّا
ना
we would have been killed
قُتِلْنَا
क़त्ल किए जाते हम
here"
هَٰهُنَاۗ
उस जगह
Say
قُل
कह दीजिए
"if
لَّوْ
अगर
you were
كُنتُمْ
होते तुम
in
فِى
अपने घरों में
your houses
بُيُوتِكُمْ
अपने घरों में
surely (would have) come out
لَبَرَزَ
अलबत्ता निकल पड़ते
those who
ٱلَّذِينَ
वो जो
was decreed
كُتِبَ
लिख दिया गया था
upon them
عَلَيْهِمُ
जिन पर
[the] death
ٱلْقَتْلُ
क़त्ल होना
towards
إِلَىٰ
तरफ़
their places of death
مَضَاجِعِهِمْۖ
अपने (सोने) मौत के मक़ामात के
And that might test
وَلِيَبْتَلِىَ
और ताकि आज़मा ले
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
what
مَا
उसको जो
(is) in
فِى
तुम्हारे सीनों में है
your breasts
صُدُورِكُمْ
तुम्हारे सीनों में है
and that He may purge
وَلِيُمَحِّصَ
और ताकि वो ख़ालिस कर दे
what
مَا
उसको जो
(is) in
فِى
तुम्हारे दिलों में है
your hearts
قُلُوبِكُمْۗ
तुम्हारे दिलों में है
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Aware
عَلِيمٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
of what
بِذَاتِ
सीनों वाले (भेद)
(is in) the breasts
ٱلصُّدُورِ
सीनों वाले (भेद)

Thumma anzala 'alaykum min ba'di alghammi amanatan nu'asan yaghsha taifatan minkum wataifatun qad ahammathum anfusuhum yathunnoona biAllahi ghayra alhaqqi thanna aljahiliyyati yaqooloona hal lana mina alamri min shayin qul inna alamra kullahu lillahi yukhfoona fee anfusihim ma la yubdoona laka yaqooloona law kana lana mina alamri shayon ma qutilna hahuna qul law kuntum fee buyootikum labaraza allatheena kutiba 'alayhimu alqatlu ila madaji'ihim waliyabtaliya Allahu ma fee sudoorikum waliyumahhisa ma fee quloobikum waAllahu 'aleemun bithati alssudoori

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर इस शोक के पश्चात उसने तुमपर एक शान्ति उतारी - एक निद्रा, जो तुममें से कुछ लोगों को घेर रही थी और कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्हें अपने प्राणों की चिन्ता थी। वे अल्लाह के विषय में ऐसा ख़याल कर रहे थे, जो सत्य के सर्वथा प्रतिकूल, अज्ञान (काल) का ख़याल था। वे कहते थे, 'इन मामलों में क्या हमारा भी कुछ अधिकार है?' कह दो, 'मामले तो सबके सब अल्लाह के (हाथ में) हैं।' वे जो कुछ अपने दिलों में छिपाए रखते है, तुमपर ज़ाहिर नहीं करते। कहते है, 'यदि इस मामले में हमारा भी कुछ अधिकार होता तो हम यहाँ मारे न जाते।' कह दो, 'यदि तुम अपने घरों में भी होते, तो भी जिन लोगों का क़त्ल होना तय था, वे निकलकर अपने अन्तिम शयन-स्थलों कर पहुँचकर रहते।' और यह इसलिए भी था कि जो कुछ तुम्हारे सीनों में है, अल्लाह उसे परख ले और जो कुछ तुम्हारे दिलों में है उसे साफ़ कर दे। और अल्लाह दिलों का हाल भली-भाँति जानता है

English Sahih:

Then after distress, He sent down upon you security [in the form of] drowsiness, overcoming a faction of you, while another faction worried about themselves, thinking of Allah other than the truth – the thought of ignorance, saying, "Is there anything for us [to have done] in this matter?" Say, "Indeed, the matter belongs completely to Allah." They conceal within themselves what they will not reveal to you. They say, "If there was anything we could have done in the matter, we [i.e., some of us] would not have been killed right here." Say, "Even if you had been inside your houses, those decreed to be killed would have come out to their death beds." [It was] so that Allah might test what is in your breasts and purify what is in your hearts. And Allah is Knowing of that within the breasts.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

फिर ख़ुदा ने इस रंज के बाद तुमपर इत्मिनान की हालत तारी की कि तुममें से एक गिरोह का (जो सच्चे ईमानदार थे) ख़ूब गहरी नींद आ गयी और एक गिरोह जिनको उस वक्त भी (भागने की शर्म से) जान के लाले पड़े थे ख़ुदा के साथ (ख्वाह मख्वाह) ज़मानाए जिहालत की ऐसी बदगुमानियॉ करने लगे और कहने लगे भला क्या ये अम्र (फ़तेह) कुछ भी हमारे इख्तियार में है (ऐ रसूल) कह दो कि हर अम्र का इख्तियार ख़ुदा ही को है (ज़बान से तो कहते ही है नहीं) ये अपने दिलों में ऐसी बातें छिपाए हुए हैं जो तुमसे ज़ाहिर नहीं करते (अब सुनो) कहते हैं कि इस अम्र (फ़तेह) में हमारा कुछ इख़्तियार होता तो हम यहॉ मारे न जाते (ऐ रसूल उनसे) कह दो कि तुम अपने घरों में रहते तो जिन जिन की तकदीर में लड़के मर जाना लिखा था वह अपने (घरो से) निकल निकल के अपने मरने की जगह ज़रूर आ जाते और (ये इस वास्ते किया गया) ताकि जो कुछ तुम्हारे दिल में है उसका इम्तिहान कर दे और ख़ुदा तो दिलों के राज़ खूब जानता है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर तुमपर शोक के पश्चात् शान्ति (ऊँघ) उतार दी, जो तुम्हारे एक गिरोह[1] को आने लगी और एक गिरोह को अपनी[2] पड़ी हुई थी। वे अल्लाह के बारे में असत्य जाहिलिय्यत की सोच सोच रहे थे। वे कह रहे थे कि क्या हमारा भी कुछ अधिकार है? (हे नबी!) कह दें कि सब अधिकार अल्लाह को है। वे अपने मनों में जो छुपा रहे थे, आपको नहीं बता रहे थे। वे कह रहे थे कि यदि हमारा कुछ भी अधिकार होता, तो यहाँ मारे नहीं जाते। आप कह दें: यदि तुम अपने घरों में रहते, तबभी जिनके (भाग्य में) मारा जाना लिखा है, वे अपने निहत होने के स्थानों की ओर निकल आते और ताकि अल्लाह जो तुम्हारे दिलों में है, उसकी परीक्षा ले तथा जो तुम्हारे दिलों में है, उसे शुध्द कर दे और अल्लाह दिलों के भेदों से अवगत है।