Skip to main content

आले इमरान आयत १५३ | Aal-e-Imran 3:153

When
إِذْ
जब
you were running uphill
تُصْعِدُونَ
तुम चढ़े जा रहे थे
and not
وَلَا
और ना
casting a glance
تَلْوُۥنَ
तुम मुड़कर देखते थे
on
عَلَىٰٓ
किसी एक को
anyone
أَحَدٍ
किसी एक को
while the Messenger
وَٱلرَّسُولُ
और रसूल
was calling you
يَدْعُوكُمْ
बुला रहे थे तुम्हें
[in]
فِىٓ
तुम्हारे पीछे से
(from) behind you
أُخْرَىٰكُمْ
तुम्हारे पीछे से
So (He) repaid you
فَأَثَٰبَكُمْ
तो उसने दिया तुम्हें
(with) distress
غَمًّۢا
ग़म
on distress
بِغَمٍّ
साथ ग़म के
so that not
لِّكَيْلَا
ताकि ना
you grieve
تَحْزَنُوا۟
तुम रंज करो
over
عَلَىٰ
उस पर
what
مَا
जो
escaped you
فَاتَكُمْ
छिन गया तुम से
and not
وَلَا
और ना
what
مَآ
जो
(had) befallen you
أَصَٰبَكُمْۗ
पहुँचा तुम्हें
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Aware
خَبِيرٌۢ
ख़ूब ख़बर रखने वाला है
of what
بِمَا
उसकी जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो

Ith tus'idoona wala talwoona 'ala ahadin waalrrasoolu yad'ookum fee okhrakum faathabakum ghamman bighammin likayla tahzanoo 'ala ma fatakum wala ma asabakum waAllahu khabeerun bima ta'maloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जब तुम लोग दूर भागे चले जा रहे थे और किसी को मुड़कर देखते तक न थे और रसूल तुम्हें पुकार रहा था, जबकि वह तुम्हारी दूसरी टुकड़ी के साथ था (जो भागी नहीं), तो अल्लाह ने तुम्हें शोक पर शोक दिया, ताकि तुम्हारे हाथ से कोई चीज़ निकल जाए या तुमपर कोई मुसीबत आए तो तुम शोकाकुल न हो। और जो कुछ भी तुम करते हो, अल्लाह उसकी भली-भाँति ख़बर रखता है

English Sahih:

[Remember] when you [fled and] climbed [the mountain] without looking aside at anyone while the Messenger was calling you from behind. So Allah repaid you with distress upon distress so you would not grieve for that which had escaped you [of victory and spoils of war] or [for] that which had befallen you [of injury and death]. And Allah is [fully] Aware of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(मुसलमानों तुम) उस वक्त क़ो याद करके शर्माओ जब तुम (बदहवास) भागे पहाड़ पर चले जाते थे पस (चूंकि) रसूल को तुमने (आज़ारदा) किया ख़ुदा ने भी तुमको (इस) रंज की सज़ा में (शिकस्त का) रंज दिया ताकि जब कभी तुम्हारी कोई चीज़ हाथ से जाती रहे या कोई मुसीबत पड़े तो तुम रंज न करो और सब्र करना सीखो और जो कुछ तुम करते हो ख़ुदा उससे ख़बरदार है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(और याद करो) जब तुम चढ़े (भागे) जा रहे थे और किसी की ओर मुड़कर नहीं देख रहे थे और रसूल तुम्हें तुम्हारे पीछे से पुकार[1] रहे थे, तो (अल्लाह ने) तुम्हें शोक के बदले शोक दे दिया, ताकि जो तुमसे खो गया और जो दुख तुम्हें पहुँचा, उसपर उदासीन न हो तथा अल्लाह उससे सूचित है, जो तुम कर रहे हो।