Skip to main content

आले इमरान आयत ३० | Aal-e-Imran 3:30

(On the) day
يَوْمَ
जिस दिन
will find
تَجِدُ
पा लेगा
every
كُلُّ
हर
soul
نَفْسٍ
नफ़्स
what
مَّا
जो
it did
عَمِلَتْ
उसने अमल किया
of
مِنْ
नेकी में से
good
خَيْرٍ
नेकी में से
presented
مُّحْضَرًا
हाज़िर किया हुआ
and what
وَمَا
और जो
it did
عَمِلَتْ
उसने अमल किया
of
مِن
बुराई में से
evil
سُوٓءٍ
बुराई में से
it will wish
تَوَدُّ
वो चाहेगा
[if]
لَوْ
काश
that
أَنَّ
बेशक
between itself
بَيْنَهَا
दर्मियान उसके
and between it (evil)
وَبَيْنَهُۥٓ
और दर्मियान उसकी (बुराई) के
(was) a distance
أَمَدًۢا
फ़ासला होता
great
بَعِيدًاۗ
दूर का
And warns you
وَيُحَذِّرُكُمُ
और डराता है तुम्हें
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
(against) Himself
نَفْسَهُۥۗ
अपनी ज़ात से
and Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) Most Kind
رَءُوفٌۢ
बहुत शफ़ीक़ है
to (His) [the] slaves
بِٱلْعِبَادِ
बन्दों पर

Yawma tajidu kullu nafsin ma 'amilat min khayrin muhdaran wama 'amilat min sooin tawaddu law anna baynaha wabaynahu amadan ba'eedan wayuhaththirukumu Allahu nafsahu waAllahu raoofun bial'ibadi

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जिस दिन प्रत्येक व्यक्ति अपनी की हुई भलाई और अपनी की हुई बुराई को सामने मौजूद पाएगा, वह कामना करेगा कि काश! उसके और उस दिन के बीच बहुत दूर का फ़ासला होता। और अल्लाह तुम्हें अपना भय दिलाता है, और वह अपने बन्दों के लिए अत्यन्त करुणामय है

English Sahih:

The Day every soul will find what it has done of good present [before it] and what it has done of evil, it will wish that between itself and that [evil] was a great distance. And Allah warns you of Himself, and Allah is Kind to [His] servants."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(और उस दिन को याद रखो) जिस दिन हर शख्स जो कुछ उसने (दुनिया में) नेकी की है और जो कुछ बुराई की है उसको मौजूद पाएगा (और) आरज़ू करेगा कि काश उस की बदी और उसके दरमियान में ज़मानए दराज़ (हाएल) हो जाता और ख़ुदा तुमको अपने ही से डराता है और ख़ुदा अपने बन्दों पर बड़ा शफ़ीक़ और (मेहरबान भी) है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जिस दिन प्रत्येक प्राणी ने जो सुकर्म किया है, उसे उपस्थित पायेगा तथा जिसने कुकर्म किया है, वह कामना करेगा कि उसके तथा उसके कुकर्मों के बीच बड़ी दूरी होती तथा अल्लाह तुम्हें स्वयं से डराता[1] है और अल्लाह अपने भक्तों के लिए अति करुणामय है।