Skip to main content

आले इमरान आयत ७२ | Aal-e-Imran 3:72

And said
وَقَالَت
और कहा
a group
طَّآئِفَةٌ
एक गिरोह ने
of
مِّنْ
अहले किताब में से
(the) People
أَهْلِ
अहले किताब में से
(of) the Book
ٱلْكِتَٰبِ
अहले किताब में से
"Believe
ءَامِنُوا۟
ईमान ले आओ
in what
بِٱلَّذِىٓ
उस चीज़ पर जो
was revealed
أُنزِلَ
नाज़िल की गई
on
عَلَى
उन पर जो
those who
ٱلَّذِينَ
उन पर जो
believe[d]
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
(at the) beginning
وَجْهَ
अव्वल (वक़्त)
(of) the day
ٱلنَّهَارِ
दिन के
and reject
وَٱكْفُرُوٓا۟
और इन्कार कर दो
at its end
ءَاخِرَهُۥ
उसके आख़िर में
perhaps they may
لَعَلَّهُمْ
ताकि वो
return
يَرْجِعُونَ
वो लौट आऐं

Waqalat taifatun min ahli alkitabi aminoo biallathee onzila 'ala allatheena amanoo wajha alnnahari waokfuroo akhirahu la'allahum yarji'oona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

किताबवालों में से एक गिरोह कहता है, 'ईमानवालो पर जो कुछ उतरा है, उस पर प्रातःकाल ईमान लाओ और संध्या समय उसका इनकार कर दो, ताकि वे फिर जाएँ

English Sahih:

And a faction of the People of the Scripture say [to each other], "Believe in that which was revealed to the believers at the beginning of the day and reject it at its end that perhaps they will return [i.e., abandon their religion],

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और अहले किताब से एक गिरोह ने (अपने लोगों से) कहा कि मुसलमानों पर जो किताब नाज़िल हुईहै उसपर सुबह सवेरे ईमान लाओ और आख़िर वक्त ऌन्कार कर दिया करो शायद मुसलमान (इसी तदबीर से अपने दीन से) फिर जाए

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अह्ले किताब के एक समुदाय ने कहा कि दिन के आरंभ में उसपर ईमान ले आओ, जो ईमान वालों पर उतारा गया है और उसके अन्त (अर्थातः संध्या-समय) कुफ़्र कर दो, संभवतः वे फिर[1] जायें।