Skip to main content

लुकमान आयत १२ | Luqman 31:12

And verily
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
We gave
ءَاتَيْنَا
दी हमने
Luqman
لُقْمَٰنَ
लुक़्मान को
the wisdom
ٱلْحِكْمَةَ
हिकमत
that
أَنِ
ये कि
"Be grateful
ٱشْكُرْ
शुक्र करो
to Allah"
لِلَّهِۚ
अल्लाह का
And whoever
وَمَن
और जो
(is) grateful
يَشْكُرْ
शुक्र करे
then only
فَإِنَّمَا
तो बेशक
he is grateful
يَشْكُرُ
वो शुक्र करता है
for himself
لِنَفْسِهِۦۖ
अपने ही नफ़्स के लिए
And whoever
وَمَن
और जो
(is) ungrateful
كَفَرَ
नाशुक्री करे
then indeed
فَإِنَّ
तो बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) Free of need
غَنِىٌّ
बहुत बेनियाज़ है
Praiseworthy
حَمِيدٌ
ख़ूब तारीफ़ वाला है

Walaqad atayna luqmana alhikmata ani oshkur lillahi waman yashkur fainnama yashkuru linafsihi waman kafara fainna Allaha ghaniyyun hameedun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निश्चय ही हमने लुकमान को तत्वदर्शिता प्रदान की थी कि अल्लाह के प्रति कृतज्ञता दिखलाओ और जो कोई कृतज्ञता दिखलाए, वह अपने ही भले के लिए कृतज्ञता दिखलाता है। और जिसने अकृतज्ञता दिखलाई तो अल्लाह वास्तव में निस्पृह, प्रशंसनीय है

English Sahih:

And We had certainly given Luqman wisdom [and said], "Be grateful to Allah." And whoever is grateful is grateful for [the benefit of] himself. And whoever denies [His favor] – then indeed, Allah is Free of need and Praiseworthy.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और यक़ीनन हम ने लुक़मान को हिकमत अता की (और हुक्म दिया था कि) तुम ख़ुदा का शुक्र करो और जो ख़ुदा का शुक्र करेगा-वह अपने ही फायदे के लिए शुक्र करता है और जिसने नाशुक्री की तो (अपना बिगाड़ा) क्योंकी ख़ुदा तो (बहरहाल) बे परवाह (और) क़ाबिल हमदो सना है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और हमने लुक़मान को प्रबोध प्रदान किया कि कृतज्ञ बनो अल्लाह के तथा जो (अल्लाह का) आभारी हो, वह आभारी है अपने ही (लाभ) के लिए और जो आभारी न हो, तो अल्लाह निःस्वार्थ सराहनीय है।