Skip to main content

लुकमान आयत ३३ | Luqman 31:33

O
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगों
mankind!
ٱلنَّاسُ
ऐ लोगों
Fear
ٱتَّقُوا۟
डरो
your Lord
رَبَّكُمْ
अपने रब से
and fear
وَٱخْشَوْا۟
और डरो
a Day
يَوْمًا
उस दिन से
not
لَّا
ना काम आएगा
can avail
يَجْزِى
ना काम आएगा
a father
وَالِدٌ
कोई बाप
[for]
عَن
अपने बच्चे के
his son
وَلَدِهِۦ
अपने बच्चे के
and not
وَلَا
और ना ही
a son
مَوْلُودٌ
कोई बच्चा
he
هُوَ
वो
(can) avail
جَازٍ
काम आने वाला है
[for]
عَن
अपने बाप की तरफ़ से
his father
وَالِدِهِۦ
अपने बाप की तरफ़ से
anything
شَيْـًٔاۚ
कुछ भी
Indeed
إِنَّ
यक़ीनन
(the) Promise
وَعْدَ
वादा
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह का
(is) True
حَقٌّۖ
सच्चा है
so let not deceive you
فَلَا
तो ना
so let not deceive you
تَغُرَّنَّكُمُ
हरगिज़ धोके में डाले तुम्हें
the life
ٱلْحَيَوٰةُ
ज़िन्दगी
(of) the world
ٱلدُّنْيَا
दुनिया की
and let not deceive you
وَلَا
और ना
and let not deceive you
يَغُرَّنَّكُم
हरगिज़ धोके में डाले तुम्हें
about Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह के बारे में
the deceiver
ٱلْغَرُورُ
बड़ा धोके बाज़

Ya ayyuha alnnasu ittaqoo rabbakum waikhshaw yawman la yajzee walidun 'an waladihi wala mawloodun huwa jazin 'an walidihi shayan inna wa'da Allahi haqqun fala taghurrannakumu alhayatu alddunya wala yaghurrannakum biAllahi algharooru

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ लोगों! अपने रब का डर रखो और उस दिन से डरो जब न कोई बाप अपनी औलाद की ओर से बदला देगा और न कोई औलाद ही अपने बाप की ओर से बदला देनेवाली होगी। निश्चय ही अल्लाह का वादा सच्चा है। अतः सांसारिक जीवन कदापि तुम्हें धोखे में न डाले। और न अल्लाह के विषय में वह धोखेबाज़ तुम्हें धोखें में डाले

English Sahih:

O mankind, fear your Lord and fear a Day when no father will avail his son, nor will a son avail his father at all. Indeed, the promise of Allah is truth, so let not the worldly life delude you and be not deceived about Allah by the Deceiver [i.e., Satan].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

लोगों अपने परवरदिगार से डरो और उस दिन का ख़ौफ रखो जब न कोई बाप अपने बेटे के काम आएगा और न कोई बेटा अपने बाप के कुछ काम आ सकेगा ख़ुदा का (क़यामत का) वायदा बिल्कुल पक्का है तो (कहीं) तुम लोगों को दुनिया की (चन्द रोज़ा) ज़िन्दगी धोखे में न डाले और न कहीं तुम्हें फरेब देने वाला (शैतान) कुछ फ़रेब दे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे लोगो! डरो अपने पालनहार से तथा भय करो उस दिन का, जिस दिन नहीं काम आयेगा कोई पिता अपनी संतान के और न कोई पुत्र काम आने वाला होगा, अपने पिता के कुछ[1] भी। निश्चय अल्लाह का वचन सत्य है। अतः, तुम्हें कदापि धोखे में न रखे सांसारिक जीवन और न धोखे में रखे अल्लाह से प्रवंचक (शैतान)।