Skip to main content

अल-अह्जाब आयत १ | Al-Ahzab 33:1

O Prophet!
يَٰٓأَيُّهَا
O Prophet!
ٱلنَّبِىُّ
नबी
Fear
ٱتَّقِ
डरिए
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
and (do) not
وَلَا
और ना
obey
تُطِعِ
आप इताअत कीजिए
the disbelievers
ٱلْكَٰفِرِينَ
काफ़िरों
and the hypocrites
وَٱلْمُنَٰفِقِينَۗ
मुनाफ़िक़ों की
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
is
كَانَ
है
All-Knower
عَلِيمًا
बहुत इल्म वाला
All-Wise
حَكِيمًا
ख़ूब हिकमत वाला

Ya ayyuha alnnabiyyu ittaqi Allaha wala tuti'i alkafireena waalmunafiqeena inna Allaha kana 'aleeman hakeeman

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

ऐ नबी! अल्लाह का डर रखना और इनकार करनेवालों और कपटाचारियों का कहना न मानना। वास्तब में अल्लाह सर्वज्ञ, तत्वदर्शी है

English Sahih:

O Prophet, fear Allah and do not obey the disbelievers and the hypocrites. Indeed, Allah is ever Knowing and Wise.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ऐ नबी खुदा ही से डरते रहो और काफिरों और मुनाफिक़ों की बात न मानो इसमें शक नहीं कि खुदा बड़ा वाक़िफकार हकीम है।

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हे नबी! अल्लाह से डरो और काफ़िरों और मुनाफ़िक़ों की आज्ञापालन न करो। वास्तव में, अल्लाह ह़िक्मत वाला, सब कुछ जानने[1] वाला है।