Skip to main content

अन-निसा आयत १४६ | An-Nisa 4:146

Except
إِلَّا
मगर
those who
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
repent
تَابُوا۟
तौबा की
and correct (themselves)
وَأَصْلَحُوا۟
और इस्लाह कर ली
and hold fast
وَٱعْتَصَمُوا۟
और मज़बूती से थाम लिया
to Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह को
and are sincere
وَأَخْلَصُوا۟
और ख़ालिस कर लिया
(in) their religion
دِينَهُمْ
अपने दीन को
for Allah
لِلَّهِ
अल्लाह के लिए
then those (will be)
فَأُو۟لَٰٓئِكَ
तो यही लोग हैं
with
مَعَ
साथ
the believers
ٱلْمُؤْمِنِينَۖ
मोमिनों के
And soon
وَسَوْفَ
और अनक़रीब
will be given
يُؤْتِ
देगा
(by) Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
the believers
ٱلْمُؤْمِنِينَ
मोमिनों को
a reward
أَجْرًا
अजर
great
عَظِيمًا
बहुत बड़ा

Illa allatheena taboo waaslahoo wai'tasamoo biAllahi waakhlasoo deenahum lillahi faolaika ma'a almumineena wasawfa yuti Allahu almumineena ajran 'atheeman

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उन लोगों की बात और है जिन्होंने तौबा कर ली और अपने को सुधार लिया और अल्लाह को मज़बूती से पकड़ लिया और अपने दीन (धर्म) में अल्लाह ही के हो रहे। ऐसे लोग ईमानवालों के साथ है और अल्लाह ईमानवालों को शीघ्र ही बड़ा प्रतिदान प्रदान करेगा

English Sahih:

Except for those who repent, correct themselves, hold fast to Allah, and are sincere in their religion for Allah, for those will be with the believers. And Allah is going to give the believers a great reward.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मगर (हॉ) जिन लोगों ने (निफ़ाक़ से) तौबा कर ली और अपनी हालत दुरूस्त कर ली और ख़ुदा से लगे लिपटे रहे और अपने दीन को महज़ ख़ुदा के वास्ते निरा खरा कर लिया तो ये लोग मोमिनीन के साथ (बेहिश्त में) होंगे और मोमिनीन को ख़ुदा अनक़रीब ही बड़ा (अच्छा) बदला अता फ़रमाएगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

परन्तु जिन्होंने क्षमा याचना कर ली, अपना सुधार कर लिया, अल्लाह को सुदृढ़ पकड़ लिया और अपने धर्म को विशुध्द कर लिया, तो वे लोग ईमान वालों के साथ होंगे और अल्लाह ईमान वालों को बहुत बड़ा प्रतिफल प्रदान करेगा।