Skip to main content

अन-निसा आयत १६२ | An-Nisa 4:162

But
لَّٰكِنِ
लेकिन
the ones who are firm
ٱلرَّٰسِخُونَ
जो रासिख़ हैं
in
فِى
इल्म में
the knowledge
ٱلْعِلْمِ
इल्म में
among them
مِنْهُمْ
उनमें से
and the believers
وَٱلْمُؤْمِنُونَ
और जो ईमान लाने वाले हैं
believe
يُؤْمِنُونَ
वो ईमान लाते हैं
in what
بِمَآ
उस पर जो
(is) revealed
أُنزِلَ
नाज़िल किया गया
to you
إِلَيْكَ
तरफ़ आपके
and what
وَمَآ
और जो
was revealed
أُنزِلَ
नाज़िल किया गया
from
مِن
आपसे पहले
before you
قَبْلِكَۚ
आपसे पहले
And the ones who establish
وَٱلْمُقِيمِينَ
और जो क़ायम करने वाले हैं
the prayer
ٱلصَّلَوٰةَۚ
नमाज़
and the ones who give
وَٱلْمُؤْتُونَ
और जो देने वाले हैं
the zakah
ٱلزَّكَوٰةَ
ज़कात
and the ones who believe
وَٱلْمُؤْمِنُونَ
और जो ईमान लाने वाले हैं
in Allah
بِٱللَّهِ
अल्लाह पर
and the Day
وَٱلْيَوْمِ
और आख़िरी दिन पर
the Last
ٱلْءَاخِرِ
और आख़िरी दिन पर
those
أُو۟لَٰٓئِكَ
यही लोग हैं
We will give them
سَنُؤْتِيهِمْ
अनक़रीब हम देंगे उन्हें
a reward
أَجْرًا
अजर
great
عَظِيمًا
बहुत बड़ा

Lakini alrrasikhoona fee al'ilmi minhum waalmuminoona yuminoona bima onzila ilayka wama onzila min qablika waalmuqeemeena alssalata waalmutoona alzzakata waalmuminoona biAllahi waalyawmi alakhiri olaika sanuteehim ajran 'atheeman

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

परन्तु उनमें से जो लोग ज्ञान में पक्के है और ईमानवाले हैं, वे उस पर ईमान रखते है जो तुम्हारी ओर उतारा गया है और जो तुमसे पहले उतारा गया था, और जो विशेष रूप से नमाज़ क़ायम करते है, ज़कात देते और अल्लाह और अन्तिम दिन पर ईमान रखते है। यही लोग है जिन्हें हम शीघ्र ही बड़ी प्रतिदान प्रदान करेंगे

English Sahih:

But those firm in knowledge among them and the believers believe in what has been revealed to you, [O Muhammad], and what was revealed before you. And the establishers of prayer [especially] and the givers of Zakah and the believers in Allah and the Last Day – those We will give a great reward.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

लेकिन (ऐ रसूल) उनमें से जो लोग इल्म (दीन) में बड़े मज़बूत पाए पर फ़ायज़ हैं वह और ईमान वाले तो जो (किताब) तुमपर नाज़िल हुई है (सब पर ईमान रखते हैं) और से नमाज़ पढ़ते हैं और ज़कात अदा करते हैं और ख़ुदा और रोज़े आख़ेरत का यक़ीन रखते हैं ऐसे ही लोगों को हम अनक़रीब बहुत बड़ा अज्र अता फ़रमाएंगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

परन्तु जो उनमें से ज्ञान में पक्के हैं तथा वे ईमान वाले, जो आपकी ओर उतारी गयी (पुस्तक क़ुर्आन) तथा आपसे पूर्व उतारी गई (पुस्तक) पर ईमान रखते हैं और जो नमाज़ की स्थापना करने वाले, ज़कात देने वाले और अल्लाह तथा अन्तिम दिन पर ईमान रखने वाले हैं, उन्हीं को हम बहुत बड़ा प्रतिफल प्रदान करेंगे।