Skip to main content

फुसिलत आयत २२ | Fussilat 41:22

And not
وَمَا
और नहीं
you were
كُنتُمْ
थे तुम
covering yourselves
تَسْتَتِرُونَ
तुम छुपते (इस बात से)
lest
أَن
कि
testify
يَشْهَدَ
गवाही देंगे
against you
عَلَيْكُمْ
तुम पर
your hearing
سَمْعُكُمْ
कान तुम्हारे
and not
وَلَآ
और ना
your sight
أَبْصَٰرُكُمْ
आँखें तुम्हारी
and not
وَلَا
और ना
your skins
جُلُودُكُمْ
जिल्दें तुम्हारी
but
وَلَٰكِن
और लेकिन
you assumed
ظَنَنتُمْ
गुमान किया तुमने
that
أَنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(does) not
لَا
नहीं वो जानता
know
يَعْلَمُ
नहीं वो जानता
much
كَثِيرًا
बहुत कुछ
of what
مِّمَّا
उसमें से जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो

Wama kuntum tastatiroona an yashhada 'alaykum sam'ukum wala absarukum wala juloodukum walakin thanantum anna Allaha la ya'lamu katheeran mimma ta'maloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तुम इस भय से छिपते न थे कि तुम्हारे कान तुम्हारे विरुद्ध गवाही देंगे, और न इसलिए कि तुम्हारी आँखें गवाही देंगी और न इस कारण से कि तुम्हारी खाले गवाही देंगी, बल्कि तुमने तो यह समझ रखा था कि अल्लाह तुम्हारे बहुत-से कामों को जानता ही नहीं

English Sahih:

And you were not covering [i.e., protecting] yourselves, lest your hearing testify against you or your sight or your skins, but you assumed that Allah does not know much of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (तुम्हारी तो ये हालत थी कि) तुम लोग इस ख्याल से (अपने गुनाहों की) पर्दा दारी भी तो नहीं करते थे कि तुम्हारे कान और तुम्हारी ऑंखे और तुम्हारे आज़ा तुम्हारे बरख़िलाफ गवाही देंगे बल्कि तुम इस ख्याल मे (भूले हुए) थे कि ख़ुदा को तुम्हारे बहुत से कामों की ख़बर ही नहीं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा तुम (पाप करते समय)[1] छुपाते नहीं थे कि कहीं साक्ष्य न दें, तुमपर, तुम्हारे कान, तुम्हारी आँख एवं तुम्हारी खालें। परन्तु, तुम समझते रहे कि अल्लाह नहीं जानता उसमें से अधिक्तर बातों को, जो तुम करते हो।