Skip to main content

अद-दुखान आयत २५ | Ad-Dukhan 44:25

How many
كَمْ
कितने ही
(did) they leave
تَرَكُوا۟
वो छोड़ गए
of
مِن
बाग़ात
gardens
جَنَّٰتٍ
बाग़ात
and springs
وَعُيُونٍ
और चश्मे

Kam tarakoo min jannatin wa'uyoonin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे छोड़ गये कितनॆ ही बाग़ और स्रोत

English Sahih:

How much they left behind of gardens and springs

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

वह लोग (ख़ुदा जाने) कितने बाग़ और चश्में और खेतियाँ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वे छोड़ गये बहुत-से बाग़ तथा जल स्रोत।