Skip to main content

अल-माइदा आयत ४७ | Al-Maidah 5:47

And let judge
وَلْيَحْكُمْ
और चाहिए कि फ़ैसला करें
(the) People
أَهْلُ
अहले इन्जील
(of) the Injeel
ٱلْإِنجِيلِ
अहले इन्जील
by what
بِمَآ
उसके मुताबिक़ जो
has revealed
أَنزَلَ
नाज़िल किया
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
in it
فِيهِۚ
उसमें
And whoever
وَمَن
और जो
(does) not
لَّمْ
ना
judge
يَحْكُم
फ़ैसला करे
by what
بِمَآ
उसके मुताबिक़ जो
has revealed
أَنزَلَ
नाज़िल किया
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
then those
فَأُو۟لَٰٓئِكَ
तो यही लोग हैं
[they] (are)
هُمُ
वो
the defiantly disobedient
ٱلْفَٰسِقُونَ
जो फ़ासिक़ हैं

Walyahkum ahlu alinjeeli bima anzala Allahu feehi waman lam yahkum bima anzala Allahu faolaika humu alfasiqoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अतः इनजील वालों को चाहिए कि उस विधान के अनुसार फ़ैसला करें, जो अल्लाह ने उस इनजील में उतारा है। और जो उसके अनुसार फ़ैसला न करें, जो अल्लाह ने उतारा है, तो ऐसे ही लोग उल्लंघनकारी है

English Sahih:

And let the People of the Gospel judge by what Allah has revealed therein. And whoever does not judge by what Allah has revealed – then it is those who are the defiantly disobedient.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और इन्जील वालों (नसारा) को जो कुछ ख़ुदा ने (उसमें) नाज़िल किया है उसके मुताबिक़ हुक्म करना चाहिए और जो शख्स ख़ुदा की नाज़िल की हुई (किताब के मुआफ़िक) हुक्म न दे तो ऐसे ही लोग बदकार हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और इंजील के अनुयायी भी उसीसे निर्णय करें, जो अल्लाह ने उसमें उतारा है और जो उससे निर्णय न करें, जिसे अल्लाह ने उतारा है, वही अधर्मी हैं।