Skip to main content

अल-वाकिया आयत ६१ | Al-Waqi’ah 56:61

In
عَلَىٰٓ
इस पर
that
أَن
कि
We (will) change
نُّبَدِّلَ
हम बदल डालें
your likeness[es]
أَمْثَٰلَكُمْ
तुम जैसों को
and produce you
وَنُنشِئَكُمْ
और हम नए सिरे से पैदा करदें तुम्हें
in
فِى
ऐसी सूरत में जो
what
مَا
ऐसी सूरत में जो
not
لَا
तुम नहीं जानते
you know
تَعْلَمُونَ
तुम नहीं जानते

'ala an nubaddila amthalakum wanunshiakum fee ma la ta'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कि हम तुम्हारे जैसों को बदल दें और तुम्हें ऐसी हालत में उठा खड़ा करें जिसे तुम जानते नहीं

English Sahih:

In that We will change your likenesses and produce you in that [form] which you do not know.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

कि तुम्हारे ऐसे और लोग बदल डालें और तुम लोगों को इस (सूरत) में पैदा करें जिसे तुम मुत्तलक़ नहीं जानते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

कि बदल दें तुम्हारे रूप और तुम्हें बना दें उस रूप में, जिसे तुम नहीं जानते।