Skip to main content

अल-अनाम आयत १११ | Al-Anam 6:111

And (even) if
وَلَوْ
और अगर
[that] We (had)
أَنَّنَا
बेशक हम
[We] sent down
نَزَّلْنَآ
उतारते हम
to them
إِلَيْهِمُ
तरफ़ उनके
the Angels
ٱلْمَلَٰٓئِكَةَ
फ़रिश्ते
and spoken to them
وَكَلَّمَهُمُ
और कलाम करते उनसे
the dead
ٱلْمَوْتَىٰ
मुर्दे
and We gathered
وَحَشَرْنَا
और इकट्ठा कर लाते हम
before them
عَلَيْهِمْ
उन पर
every
كُلَّ
हर
thing
شَىْءٍ
चीज़ को
face to face
قُبُلًا
सामने
not
مَّا
ना
they were
كَانُوا۟
थे वो
to believe
لِيُؤْمِنُوٓا۟
कि वो ईमान ले आते
unless
إِلَّآ
मगर
[that]
أَن
ये कि
wills
يَشَآءَ
चाहता
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
But
وَلَٰكِنَّ
और लेकिन
most of them
أَكْثَرَهُمْ
अक्सर उनके
(are) ignorant
يَجْهَلُونَ
वो जहालत बरतते हैं

Walaw annana nazzalna ilayhimu almalaikata wakallamahumu almawta wahasharna 'alayhim kulla shayin qubulan ma kanoo liyuminoo illa an yashaa Allahu walakinna aktharahum yajhaloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि हम उनकी ओर फ़रिश्ते भी उतार देते और मुर्दें भी उनसे बातें करने लगते और प्रत्येक चीज़ उनके सामने लाकर इकट्ठा कर देते, तो भी वे ईमान न लाते, बल्कि अल्लाह ही का चाहा क्रियान्वित है। परन्तु उनमें से अधिकतर लोग अज्ञानता से काम लेते है

English Sahih:

And even if We had sent down to them the angels [with the message] and the dead spoke to them [of it] and We gathered together every [created] thing in front of them, they would not believe unless Allah should will. But most of them, [of that], are ignorant.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ऐ रसूल सच तो ये है कि) हम अगर उनके पास फरिश्ते भी नाज़िल करते और उनसे मुर्दे भी बातें करने लगते और तमाम (मख़फ़ी(छुपी)) चीज़ें (जैसे जन्नत व नार वग़ैरह) अगर वह गिरोह उनके सामने ला खड़े करते तो भी ये ईमान लाने वाले न थे मगर जब अल्लाह चाहे लेकिन उनमें के अक्सर नहीं जानते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि हम इनकी ओर (आकाश से) फ़रिश्ते उतार देते और इनसे मुर्दे बात करते और इनके समक्ष प्रत्येक वस्तु एकत्र कर देते, तबभी ये ईमान नहीं लाते, परन्तु जिसे अल्लाह (मार्गदर्शन देना) चाहता। और इनमें से अधिक्तर (तथ्य से) अज्ञान हैं।